Monday , July 23 2018

गुजरात दंगों में दोषी बाबू बजरंगी ने की कोर्ट से कहा- दिखाई-सुनाई नहीं देता, 20 दिन की बेल दी जाए

2002 में हुए दंगों के दोषी बाबू बजरंगी उम्रकैद की सजा काट रहे ने गुजरात हाई कोर्ट से सिफारिश की है कि उसे आंखों का इलाज कराने के लिए 20 दिनों की बेल दी जाए। बजरंगी ने कोर्ट से गुहार लगाई है कि उसे 20 दिन की बेल दी जाए ताकि वह चेन्नई जाकर अपनी आंखों का इलाज करा सके। बाबू बजरंगी के वकील ने बताया कि डिवीज़न बेंच का नेतृत्व कर रहे जस्टिस हर्ष देवानी ने जेल प्रशासन से बजरंगी की मेडिकल रिपोर्ट मांगी है और सुनवाई को स्थगित कर दिया गया।

सुनवाई के दौरान कोर्ट से बजरंगी के वकील ने कहा कि बजरंगी क्रोनिक डायबिटीज़ और आंखों की परेशानी से पीड़ित है। आपको बता दें कि बजरंगी साल 2012 से साबरमती सेंट्रल जेल में बंद है।

बाबू बजरंगी के अलावा नरोडा पाटिया दंगे के मामले में 30 अन्य लोगों को भी दोषी ठहराया गया है जिनमें पूर्व बीजेपी मंत्री माया कोडनानी भी शामिल हैं। हालांकि माया ने अपनी एक अर्जी में कोर्ट से कहा था कि घटना में उनका कोई हाथ नहीं था और न ही वे उस समय दंगों वाली जगह पर मौजूद थीं। फिलहाल इस मामले में दायर की गई अर्जियों पर फैसला होना अभी बाकी है। गौरतलब है कि 2002 में नरोडा पाटिया में हुए दंगों में 97 मुस्लिमों की हत्या कर दी गई थी। कोडनानी पर आरोप लगे है कि इस दौरान उन्होंने हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व किया था,

TOPPOPULARRECENT