तेल अवीव में अरब नेतृत्व में हजारों की सख्यां में रैली इजरायल के अस्तित्व के लिए खतरे की घंटी : नेतन्याहु

तेल अवीव में अरब नेतृत्व में हजारों की सख्यां में रैली इजरायल के अस्तित्व के लिए खतरे की घंटी  : नेतन्याहु
Click for full image

तेल अविव : 19 जुलाई को, इजरायली संसद ने इजरायल को “राष्ट्र-राज्य” घोषित करने के लिए नए कानून को पारित किया था। कानून हिब्रू को एकमात्र आधिकारिक भाषा के रूप में भी घोषित करता है। ‘राष्ट्र-राज्य’ कानून के विरोध में तेल अवीव के केंद्र में हजारों इज़राइली अरब और यहूदी इकट्ठे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों ने अरबी और हिब्रू में “समानता” के लिए आवाज उठाया और कहा “नस्लीय भेदभाव पास नहीं होगा।” प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रीयता के आधार पर संभावित भेदभाव के बारे में चिंतित हुआ।

प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को कैबिनेट की बैठक में कहा, “कल हमें इज़राइल राज्य के अस्तित्व और राष्ट्र-राज्य कानून की आवश्यकता के प्रति अपमान के स्पष्ट सबूत मिले।” उन्होने कहा “हमने तेल अवीव में पीएलओ [फिलिस्तीनी लिबरेशन संगठन] के झंडे देखे। वो भी तेल अवीव के दिल में!” नेतन्याहू ने जोर दिया कि “हमने अरबी में नारे सुने जिनमें कहा जा रहा था हम ‘खून और आग से फिलिस्तीन को शुद्ध करेंगे।'”

अरब मूल के डिप्टी के अनुसार, प्रदर्शन “कानून के खिलाफ और विरोध के लिए एक परिचय है।” इससे पहले, कई सेवानिवृत्त उच्च रैंकिंग नेताओं और सुरक्षा बलों के प्रतिनिधियों ने कानून की अपनी तीव्र आलोचना के लिए आवाज उठाई। नए कानून के खिलाफ पांच मुकदमा देश की अदालतों में विचाराधीन हैं।

कानून, जिसे जुलाई में केनेसेट द्वारा पारित किया गया था, यह निर्धारित करता है कि देश में रहने वाले यहूदियों को आत्मनिर्भरता का अधिकार है, जबकि अरब, जो देश की आबादी का लगभग 20 प्रतिशत हिस्सा बनाते हैं, को उस अधिकार से वंचित कर दिया गया है।

कानून हिब्रू को एकमात्र आधिकारिक भाषा भी घोषित करता है, जबकि अरबी को “विशेष स्थिति” के साथ एक भाषा का दर्जा दिया है।

Top Stories