झूठी अफवाह के बाद दो समुदायों के बीच संघर्ष, दिल्ली के त्रिलोकपुरी में तनाव

झूठी अफवाह के बाद दो समुदायों के बीच संघर्ष, दिल्ली के त्रिलोकपुरी में तनाव
Click for full image

नई दिल्ली। दलित समुदाय के एक व्यक्ति की मृत्यु की झूठी अफवाह के बाद मंगलवार शाम पूर्वी दिल्ली के त्रिलोकपुरी में तनाव फ़ैल गया। अफवाह में अनुसार उसको चार दिन पहले मार दिया गया था। पुलिस ने कहा कि कुछ दिन पहले इलाके के दो लोगों के बीच लड़ाई हुई थी और एक दलित पर कथित तौर पर हमला किया गया था।

हालांकि, मंगलवार की रात को स्थानीय लोगों ने हमले के मामले की खबर देखी और अफवाहें फैल गईं कि पिटाई के कारण आदमी की मृत्यु हो गई। स्थानीय निवासियों ने पथराव का सहारा लिया। चार दिन पहले अन्य समुदाय के सदस्यों ने क्षेत्र के पुरुषों में से एक को मार डाला था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था लेकिन आज एक अफवाह थी कि जो व्यक्ति पीटा गया था वह मृत पाया गया था।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि इस वजह से पथराव शुरू हुआ। डीसीपी (पूर्व) ओमवीर सिंह बिश्नोई ने कहा कि पुलिस को रात 9 बजे घटना के बारे में पता चला। ब्लॉक नंबर 27 और 28 के दो समूह संघर्ष का हिस्सा थे। पीसीआर कॉल प्राप्त करने के बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई, लेकिन सभी स्थानीय लोग तब तक घर चले गए थे। पुलिस को सख्त निगरानी रखने के लिए कहा गया है और क्षेत्र में तैनात किया गया हैं।

पुलिस ने कहा कि इस इलाके में हुए 2014 के सांप्रदायिक दंगों के बाद गठित ‘अमन समिति’ के माध्यम से दिल्ली पुलिस द्वारा स्थिति नियंत्रित की गई थी। अमन समिति के मोहम्मद जैनुद्दीन मंसूरी ने कहा कि वह एक स्थानीय समारोह में भाग ले रहे थे, जब उन्हें पथराव के बारे में पता चल गया, जिसके बाद उन्होंने पुलिस को फोन किया।

Top Stories