न्यूज़ीलैंड मस्जिदों पर हमला: बड़ी संख्या में जुमे की नमाज़ के लिए मुसलमान हुए थे जमा

न्यूज़ीलैंड मस्जिदों पर हमला: बड़ी संख्या में जुमे की नमाज़ के लिए मुसलमान हुए थे जमा

न्यूजीलैंड में क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में शुक्रवार को हुए हमलों में 49 लोगों की मौत हो गई और 20 से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

एएफपी को ‘यूट्यूब’ पर मिली वीडियो की प्रति में छोटे बालों वाला एक व्यक्ति मस्जिद की ओर वाहन चलाकर जाते दिख रहा है। व्यक्ति की दाढी-मूंछ नहीं है।

मस्जिद में घुसते ही वह गोलीबारी करता है। जिस फेसबुक और ट्विटर अकाउंट से वीडियो पोस्ट की गई थी, उन्हें निलंबित कर दिया गया है। घटना से दु:खी रग्बी खिलाड़ी सोनी बिल विलियम्स ने एक भावुक वीडियो साझा करके कहा, ‘‘अभी यह समाचार सुना।

मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता कि मैं इस समय क्या महसूस कर रहा हूं।’’उन्होंने कहा, ‘‘आज जिनकी भी मौत हुई है इंशाअल्लाह, उन सभी को जन्नत नसीब हो।’’

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने इस गोलीबारी को ‘‘न्यूजीलैंड के सबसे काले दिनों में से एक’’ बताया। मस्जिदों में दोपहर को जब हमला हुआ, उस समय लोगों की भीड़ वहां जुम्मे की नमाज के लिए एकत्र थी और बांग्लादेश क्रिकेट टीम के सदस्य वहां पहुंच रहे थे।

स्थानीय मीडिया ने बताया कि कम से कम नौ लोगों की मौत हो गई है। पुलिस हमलावर को पकड़ने की कोशिश कर रही है जो अब भी ‘‘सक्रिय’’ है। पुलिस आयुक्त माइक बुश ने कहा, ‘‘स्थिति लगातार बदल रही है और हम तथ्यों की पुष्टि के लिए काम कर रहे हैं। हम यह पुष्टि कर सकते हैं कि कई लोगों की मौत हुई है।’’

अर्डर्न ने कहा कि वह मृतकों की संख्या की पुष्टि करने में सक्षम नहीं हैं। स्थिति अभी पूरी तरह स्पष्ट नहीं है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह स्पष्ट है कि यह न्यूजीलैंड के सबसे काले दिनों में से एक है।’’

अर्डर्न ने कहा, ‘‘यहां स्पष्ट रूप से जो हुआ, वह हिंसा की इंतेहाई बुरी वारदात है।’’ मध्य क्राइस्टचर्च स्थित मस्जिद अल नूर में जब हमला हुआ, तब नमाज पढ़ने के लिए बड़ी संख्या में लोग वहां मौजूद थे। उपनगर लिनवुड स्थित एक अन्य मस्जिद में हमला हुआ।

मस्जिद में मौजूद एक फलस्तीनी व्यक्ति ने बताया कि उसने एक व्यक्ति के सिर में गोली लगती देखी। उसने कहा, ‘‘मुझे लगातार तीन गोलियों की आवाज सुनाई दी और मुश्किल से 10 सेकंड बाद ही फिर से ऐसा हुआ। हमलावर के पास संभवत: स्वचालित हथियार होगा क्योंकि कोई इतनी जल्दी ट्रिगर नहीं दबा सकता।’’

हमले के समय डीन अवे मजिस्द में नमाज पढ़ रहे एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि उसने बाहर अपनी पत्नी का शव फुटपाथ पर पड़ा देखा।, ‘‘लोग भाग रहे थे। कुछ लोग खून से सने थे।’’ एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि उसने बच्चों पर गोलियां चलती देखीं।

‘‘मेरे चारों ओर शव थे।’’ एक प्रत्यक्षदर्शी ने ‘रेडियो न्यूजीलैंड’ को बताया कि उसने गोलीबारी सुनी और चार लोग जमीन पर पड़े थे और ‘‘हर तरफ खून’’ था। अपुष्ट खबरों के अनुसार, हमलावर ने सेना की वर्दी जैसे कपड़े पहने हुए थे।

बांग्लादेश की क्रिकेट टीम के प्रवक्ता ने बताया कि कोई खिलाड़ी हताहत नहीं हुआ है। उन्होंने एएफपी से कहा, ‘‘वे सुरक्षित हैं, लेकिन वे सदमे में हैं। हमने टीम से होटल में रहने को कहा है।’’ उन्होंने बताया कि पूरी टीम को बस में बिठाकर मस्जिद लाया गया था और जब गोलीबारी हुई, तब टीम मस्जिद में प्रवेश करने ही वाली थी।

Top Stories