Friday , December 15 2017

अयोध्या मामला: श्री श्री आना चाहते थे देवबंद, मौलाना नोमानी ने कहा- दारुल उलूम केवल शिक्षा तक ही सिमित

सहारनपुर। अयोध्या में राम मंदिर विवाद के समाधान की ताजा प्रयासों के बीच प्रतिष्ठित इस्लामी दानिशगाह दारुल उलूम देवबंद के प्रमुख मुफ्ती मौलाना अबुल कासिम नोमानी ने स्पष्ट किया कि इस मामले में उनकी राय वही होगी जो ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की होगी।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से मांगी गई राय पर श्री नोमानी ने कहा है कि श्री श्री रवि शंकर ने इस मामले में दारुल उलूम आने और उनसे मुलाकात करने की इच्छा जताई है। दारुल उलूम श्री रवि शंकर पर यह स्पष्ट कर दिया है कि इस संस्था की भूमिका केवल धार्मिक शिक्षा तक ही सीमित है।

मौलाना ने कहा कि तीन तलाक के मुद्दे पर भी दारुल उलूम ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि जो भी मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड फैसला करेगा वह उसके साथ रहेगा। उन्होंने बताया कि उन्हें पता चला है कि प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में राम मंदिर मुद्दे पर मजलिसे शूरा के सदस्य और जमीअत उलेमा ए हिंद के तत्कालीन अध्यक्ष मौलाना असद मदनी मरहूम के बीच ज़रूर सहमति कायम हुआ था, लेकिन वाजपेयी सरकार के समाप्त होने और मौलाना मदनी दिहांत के बाद इस फोर्मुले पर आगे काम नही हो सका।

TOPPOPULARRECENT