Wednesday , December 13 2017

झारखंड: मॉब लिंचिंग मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट का आदेश, मुकदमा चलाया जाए

झारखंड : शुक्रवार को झारखंड उच्च न्यायालय ने रामगढ़ के जमानत मामले में दिन-प्रतिदिन परीक्षण के लिए एक विशेष फास्ट-ट्रैक अदालत का गठन किया।

29 जून को मुस्लिम व्यापारी अलीिमुद्दीन अंसारी उर्फ ​​असगर अली को कथित तौर पर 45 किलोमीटर दूर रामगढ़ शहर के बजरर्ट में गोमांस ले जाने के लिए भीड़ द्वारा मार दिया गया। कुछ बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की भीड़ ने भी उसे मारने के बाद अंसारी के वाहन, एक मारुति वैन को आग लगा दी थी।

उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल अंबुज नाथ ने कहा, “राज्य सरकार के अनुरोध पर, झारखंड उच्च न्यायालय ने विशेष जिला न्यायाधीश ओम प्रकाश की अध्यक्षता में एक विशेष फास्ट ट्रैक कोर्ट का गठन किया था जो रामगढ के जमानत पर मुकदमा चलाने के लिए किया। ”
उन्होंने कहा, “यह संभवतः देश में पहली बार है कि एक विशेष अदालत का गठन एक भीड़ पर हमला मामले की कोशिश के लिए किया गया है। ”

हालांकि इस मुद्दे पर कई विपक्षी नेताओं ने संसद में उठाया जिसमें भीड़ द्वारा की जाने वाली हत्या को दबाने में सरकार की गंभीरता पर सवाल खड़े किये।

इस मामले में आलोचना का सामना करते हुए मुख्यमंत्री रघुबार दास ने पुलिस स्टेशनों के प्रभारी अधिकारी को चेतावनी दी कि उनके क्षेत्र में मॉब लिंचिंग में मारे जाने पर किसी भी घटना की खबर हुए तो अधिकारी को उनके पद से बर्खास्त कर दिया जायगा।

रामगढ़ के मामले में जांच के लिए सरकार द्वारा बनाई गई विशेष जांच टीम ने अब तक 12 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया है जिसमें भाजपा नेता नित्यानंद महतो भी शामिल हैं।

इस मामले में रामगढ़ के पुलिस अधीक्षक किशोर कौसल ने कहा कि “जांच अभी भी जारी है हम सभी 12 व्यक्तियों के खिलाफ शीघ्र ही आरोप पत्र दाखिल करने जा रहे हैं, जिसमें पांच गिरफ्तार किए गए।”

उन्होंने कहा, “हम जल्द से जल्द मामले को अंतिम रूप देने के लिए दृढ़ हैं।”

TOPPOPULARRECENT