दुनिया को अगर दूसरा ‘करबला’ बनने से रोकना है, तो मुसलमानों को आपस में एकता पैदा करनी होगी: एर्दोगन

दुनिया को अगर दूसरा ‘करबला’ बनने से रोकना है, तो मुसलमानों को आपस में एकता पैदा करनी होगी: एर्दोगन
Click for full image

यौमे आशूरा के मौके पर तुर्की के राष्ट्रपति और इस्लाम के लोकप्रिय नेता रजब तैयब एर्दोगन ने मुस्लिम दुनियां के नाम जारी एक पैग़ाम में कहा कि दुनिया को अगर दूसरा करबला बनने से रोकना है तो हमें अपनी सफ़ों में एकता पैदा करना होगा।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

राष्ट्रपति एर्दोगन ने सोशल मीडिया पर योमे शहादत हुसैन के मद्देनजर मुसलमानों के नाम अपने पैगाम में कहा कि 1378 साल पहले करबला में पैदा होने वाली क़यामत के तमाम शहीदों की शहादत हमारे लिए मार्गदर्शन है। जिनकी मगफिरत के लिए अल्लाह से दुआ करता हूँ।

उन्होंने कहा कि यह दुखद घटना हमें भाईचारा, एकता और अपने खेमों में गठबंधन करने की हिदायत देता है, क्योंकि यही समय की मांग है। मैं इस घटना के मद्देनजर अल्लाह तबारक व तआला से दुआ करता हूँ कि यौमे आशुरा पर रोजेदारों के रोज़े को कुबूल करते हुए मुसलमानों और अन्य समुदाय के बीच शांति और न खत्म होने वाली खुशहाली और अच्छाई पैदा करे।

Top Stories