एनजीटी के आदेश के बाद जंतर-मंतर से हटाए गए पूर्व सैनिक व अन्य प्रदर्शनकारी

एनजीटी के आदेश के बाद जंतर-मंतर से हटाए गए पूर्व सैनिक व अन्य प्रदर्शनकारी
Click for full image

नई दिल्ली-   राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) ने अपने  आदेश  के बाद  जंतर-मंतर से सोमवार को कुछ अन्य प्रदर्शनकारियों के साथ-साथ 2015 से यहां प्रदर्शन कर रहे पूर्व सैनिकों को भी हटा दिया गया।  पूर्व सैनिकों ने आरोप लगाया है कि उनके साथ धक्का-मुक्की की गई और उनमें से कुछ जख्मी भी हो गए।राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) ने अपने 5 अक्टूबर के आदेश में कहा था कि जंतर मंतर से धरना-प्रदर्शन करने वालों को हटा दिया जाए। अब आगे से यहां पर प्रदर्शन पर प्रतिबंध रहेगा।

दिल्ली पुलिस ने कहा कि एनजीटी के आदेश के तहत प्रदर्शनकारियों के 32 समूहों के करीब 150 लोगों को वहां से हटा दिया गया है। पुलिस की दो कंपनियां जंतर-मंतर पर तैनात की गई हैं ताकि वहां फिर से प्रदर्शनकारी नहीं पहुंच सकें।

वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) की मांग को लेकर पूर्व सैनिकों का एक हिस्सा यहां 2015 से प्रदर्शन कर रहा था। हालांकि सरकार ने ओआरओपी को लागू किया है लेकिन इनका कहना है कि इसमें कई त्रुटियां हैं।

पूर्व सैनिकों के संयुक्त मोर्चा के सलाहकार मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) सतबीर सिंह ने कहा कि पूर्व सैनिकों को जबरन हटाया गया और इस दौरान एक महिला समेत तीन लोगों को चोट लगी।

Top Stories