NHRC के ज़ेर तस्फ़ीया मुआमलात में कमी

NHRC के ज़ेर तस्फ़ीया मुआमलात में कमी
नैशनल ह्युमेन राईट्स कमीशन (NHRC) में ज़ेर-ए-इलतिवा मुआमलात की यकसूई के लिए जो कोशिशें की जा रही हैं, अब ऐसा महसूस हो रहा है कि इनके मुसबत नताइज सामने आ रहे हैं क्योंकि जनवरी 2012 में इंसानी हुक़ूक़ की ख़िलाफ़वर्ज़ी के 13000 मुआमलात सामने आए है

नैशनल ह्युमेन राईट्स कमीशन (NHRC) में ज़ेर-ए-इलतिवा मुआमलात की यकसूई के लिए जो कोशिशें की जा रही हैं, अब ऐसा महसूस हो रहा है कि इनके मुसबत नताइज सामने आ रहे हैं क्योंकि जनवरी 2012 में इंसानी हुक़ूक़ की ख़िलाफ़वर्ज़ी के 13000 मुआमलात सामने आए हैं जबकि यही आदाद-ओ-शुमार दिस्मबर 2011 में 15,500 तक पहुंच गए थे।

दरीं असना NHRC के एक सीनीयर ओहदेदार ने ज़ेर तस्फ़ीया मुआमलात के लिए रियास्ती सतह पर मौजूद इस नौईयत की मजालिस की अदमे मौजूदगी को ज़िम्मेदार क़रार दिया।

Top Stories