Friday , February 23 2018

आज के दिन दुनिया छोड़ गए थे आम आदमी के शायर निदा फ़ाज़ली….

घर से मस्‍जिद है बहुत दूर चलो यूं कर लें,
किसी रोते हुए बच्‍चे को हंसाया जाए…

जब यह शेर निदा ने एक बार पाकिस्तान में पढ़ा तो इस पर कट्टरपंथियों ने यह कह कर उनका विरोध किया कि क्या बच्चा अल्लाह से बढ़कर है? तब निदा फाजली ने जो उत्तर दिया था वह काबिले गौर था. उन्होंने कहा था, “मस्जिद तो इंसान बनाता है पर बच्चों को खुदा खुद अपने हाथों से रचता है.” मुझे याद आया कविवर रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने भी कहा था कि, “भगवान अब भी बच्चों को धरती पर भेज रहा है. इसका अर्थ यह है कि अभी वह मनुष्य जाति से निराश नहीं हुआ है.”

मशहूर शायर निदा फाजली की आज पुण्यतिथि है। उनका निधन 8 फरवरी 2016 को दिल का दौरा पड़ने से हुआ था। शायरी की दुनिया में निदा जाना-पहचाना नाम थे। उन्‍होंने शायरी और गजल के अलावा कई फिल्‍मों के लिए गाने भी लिखे थे।12 अक्टूबर 1938 को दिल्ली में जन्मे निदा फाजली को शायरी विरासत में मिली थी। उनके घर में उर्दू और फारसी के दीवान, संग्रह भरे पड़े थे। उनके पिता भी शेरो-शायरी में दिलचस्पी लिया करते थे और उनका अपना काव्य संग्रह भी था, जिसे निदा फाजली अक्सर पढ़ा करते थे। निदा फाजली उनके लेखन का नाम था। निदा का मतलब होता है आवाज जबकि फाजली कश्मीर के उस इलाके का नाम है जहां से उनका परिवार दिल्ली आकर बसा था। निदा फाजली ने सूरदास की एक कविता से प्रभावित होकर शायर बनने का फैसला किया था। यह बात उस समय की है, जब उनका पूरा परिवार बंटवारे के बाद भारत से पाकिस्तान चला गया था लेकिन निदा फाजली ने हिन्दुस्तान में ही रहने का फैसला किया।

आइए जानते है उनकी कुछ रचनाएं:

सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो

यहां किसी को कोई रास्ता नहीं देता
मुझे गिरा के अगर तुम संभल सको तो चलो

हर इक सफर को है महफूज रास्तों की तलाश
हिफाज़तों की रवायत बदल सको तो चलो

यही है ज़िंदगी, कुछ ख्वाब, चंद उम्मीदें
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो
किसी के वास्ते राहें कहां बदलती हैं
तुम अपने आपको खुद ही बदल सको तो चलो

……………………………………

कच्चे बखिए की तरह रिश्ते उधड़ जाते हैं
हर नए मोड़ पर कुछ लोग बिछड़ जाते हैं
यूं हुआ दूरियां कम करने लगे थे दोनों
रोज चलने से तो रस्ते भी उखड़ जाते हैं
छांव में रख के ही पूजा करो ये मोम के बुत
धूप में अच्छे भले नक्श बिगड़ जाते हैं
भीड़ से कट के न बैठा करो तन्हाई में
बेख्याली में कई शहर उजड़ जाते हैं

…………………………………….

बच्चा बोला देख कर, मस्जिद आलीशान
अल्ला तेरे एक को, इतना बड़ा मकान।
अन्दर मूरत पर चढ़े घी, पूरी, मिष्ठान
मंदिर के बाहर खड़ा, ईश्वर मांगे दान।
सब की पूजा एक सी, अलग-अलग हर रीत
मस्जिद जाये मौलवी, कोयल गाये गीत।
सात समंदर पार से, कोई करे व्यापार
पहले भेजे सरहदें, फिर भेजें हथियार।
ऊपर से गुड़िया हंसे, अंदर पोलमपोल
गुड़िया से है प्यार तो, टांको को मत खोल।
मुझ जैसा इक आदमी, मेरा ही हमनाम
उल्टा-सीधा वो चले, मुझे करे बदनाम।

…………………………………..

हर घड़ी खुद से उलझना है मुकद्दर मेरा
मैं ही कश्ती हूं मुझी में है समंदर मेरा
किससे पूछूं कि कहां गुम हूं बरसों से
हर जगह ढूंढ़ता फिरता है मुझे घर मेरा
एक से हो गए मौसमों के चेहरे सारे
मेरी आंखों से कहीं खो गया मंजर मेरा
मुद्दतें बीत गईं ख्वाब सुहाना देखे
जागता रहता है हर नींद में बिस्तर मेरा
आईना देखके निकला था मैं घर से बाहर
आज तक हाथ में महफूज है पत्थर मेरा

……………………………..

तन्हा तन्हा हम रो लेंगे महफिल महफिल गायेंगे
जब तक आंसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनायेंगे
तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं
देर न करना घर जाने में वरना घर खो जायेंगे
बच्चों के छोटे हाथों को चांद सितारे छूने दो
चार किताबें पढ़ कर वो भी हम जैसे हो जायेंगे
किन राहों से दूर है मंजिल कौन सा रस्ता आसां है
हम जब थक कर रुक जायेंगे औरों को समझायेंगे
अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हो मुमकिन है
हम तो उस दिन रो देंगे जिस दिन धोखा खायेंगे

TOPPOPULARRECENT