Wednesday , December 13 2017

नीलोफर ने 6 भाषाओं में तैयार किया मोबाइल एप्लिकेशन, अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से होंगी सम्मानित

अमरावती: किसी भी क्षेत्र में मुस्लिम लड़कियों के विकास को एक कठिन काम माना जाता है. क्योंकि मुस्लिम समाज में लड़कियों से लड़कों को प्राथमिकता दी जाती है. लेकिन महाराष्ट्र के अमरावती की नीलोफर ने पुरुष और महिला के भेदभाव को ताक पर रखते हुए एक ऐसा कारनामा अंजाम दिया है जिसकी वजह से उसकी विभिन्न हलकों से प्रशंसा की जा रही है. नीलोफर ने छह भाषाओं में एक ऐसा मोबाइल एप्लिकेशन तैयार किया है जिसकी वजह से उसे पुणे में अंतरराष्ट्रीय स्तर के एक पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रदेश 18 के अनुसार, नीलोफर कहती है कि समाज में लड़कियों की शिक्षा समय की जरूरत है. नीलोफर का मानना है कि किसी भी राष्ट्र के विकास का दारोमदार इस राष्ट्र के शैक्षिक विकास होता है. अगर देश की लड़कियां शिक्षा के क्षेत्र में विकास करती हैं तो राष्ट्र का विकास होगा.

नीलोफर ने एक ऐसा मोबाइल एप्लिकेशन तैयार किया है जिससे आम लोग सीधे विश्व प्रसिद्ध डॉक्टरों से अपनी बीमारी का मुफ्त इलाज और सलाह ले सकते हैं. दुनिया की छह भाषाओं में यह ऐप तैयार किया है उनके इस कारनामे के लिए इसे अंतरराष्ट्रीय इन्वेशन ऑफ द ईयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. नीलोफर ने बीडीएस की पढ़ाई की है, और उस में कुछ कर गुजरने का जुनून है. माता पिता के मार्गदर्शन ने नीलोफर को यह स्थान मिला है. पिता हाजी शेख सुल्तान सरकारी कर्मचारी की हैसियत से सेवा करते हुए रिटायर हो चुके हैं. उनके पिता ने बच्चों की शिक्षा के लिए हर तरह की कुर्बानियां दी हैं. उनकी माँ एक गृहिणी हैं. नीलोफर मानती हैं कि उनके माता पिता का सबसे अच्छा मार्गदर्शन और प्रोत्साहन ही उनकी सफलता की गारंटी है.

TOPPOPULARRECENT