Saturday , June 23 2018

सिलेबस में विशेष सुधार की जरूरत है ताकि प्रदेश में कोई कन्हैया कुमार पैदा न हो- राजस्थान शिक्षा मंत्री

जयपुर। राजस्थान विधानसभा में राज्य के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि पाठयक्रम में विशेष सुधार किया जाएगा और स्वतंत्रता सैनानियों की जीवनियों को शामिल किया जाएगा, ताकि प्रदेश में कोई कन्हैया पैदा नहीं हो।

अभी तक आप यही जानते होंगे की गुरुत्वाकर्षण का नियम महान वैज्ञानिक न्यूटन ने ईजाद किया था, लेकिन राजस्थान के शिक्षामंत्री ने गुरुत्वाकर्षण नियम को लेकर अजीबोगरीब दावा किया है।

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता और वसुंधरा राजे सरकार वासुदेव देवनानी ने कहा है कि गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत न्यूटन ने नहीं ब्रह्मगुप्त द्वितीय ने दिया था।

जयपुर में राजस्थान यूनिवर्सिटी के 72वें स्थापना दिवस समारोह में उन्होंने कहा, ‘अभी मैं तीन चार दिन पहले पढ़ रहा था, की न्यूटन का….गुरुत्वाकर्षण का नियम किसने दिया? तो बताया की न्यूटन ने किया, मैंने भी पढ़ा, आपने भी पढ़ा, गहराई में जाएंगे, तो ब्रह्मगुप्ता द्वितीय ने उससे एक हजार साल पहले की गुरुत्वाकर्ष का नियम दिया था।’

देवनानी ने कहा कि एक हजार साल बाद आए आधुनिक वैज्ञानिक को भी पढ़ाए लेकिन इसे सिलेबस में क्यों नहीं जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि स्कूल शिक्षा की बेहतरी से ही उच्च शिक्षा की सुदृढ़ नींव तैयार की जा सकती है।

देवनानी ने अपने संबोधन में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार का जिक्र करते हुए कहा कि राजस्थान में ऐसा कोई शख्स पैदा न हो।

उन्होंने कहा, ‘रोज रोज जब अखबारों में पढ़ते हैं, हिंसा की, तोड़फोड़ की, आगजनी की, इस प्रकार के राष्ट्रद्रोही जो गतिविधियां होती है, उसको मेरे विश्वविद्यालय कैसे रोके, अब जवाहरलाल यूनिवर्सिटी का जब…मैं बहुत ज्यादा जिक्र नहीं करता…वो अपना कन्हैया का बात आप सकको जानकारी है। राजस्थान में कोई कन्हैया पैदा न हो।’

TOPPOPULARRECENT