जम्मू कश्मीर में कोई भी मुस्लिम महिला बगैर महरम के हज पर जाने को तैयार नहीं

जम्मू कश्मीर में कोई भी मुस्लिम महिला बगैर महरम के हज पर जाने को तैयार नहीं
Click for full image

श्रीनगर। देश की एकमात्र मुस्लिम बहुल राज्य जम्मू और कश्मीर में किसी एक महिला ने भी बगैर महरम के हज पर जाने के लिए आवेदन नहीं दी है। अधिकारिक सूत्रों ने यूएनआई को बताया कि यह ‘नई हज नीति के तहत 45 साल या उससे अधिक उम्र की महिलाओं के हज पर जाने के लिए महरम के साथ होने की शर्त खत्म कर दी गई है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

हमें जो 32 हजार 332 आवेदन प्राप्त हुई हैं, उन में किसी एक भी महिला ने महरम के बगैर हज पर जाने की ख्वाहिश का इज़हार नहीं किया है। केन्द्रीय हज कमीटी के मुताबिक देश भर में 1320 मिहलाओं ने महरम के बगैर हज पर जाने के लिए आवेदन दी हैं।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 31 दिसंबर को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में इस विषय पर बात करते हुए अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्रालय से कहा कि इस साल बिना महरम के हज पर जाने की इच्छुक महिलाओं को लोटरी सिस्टम के बिना हज पर जाने की इजाजत दे दी जानी चाहिए।

Top Stories