UP: अल्पसंख्यक शैक्षिक संस्थाओं में भर्ती कानून में बदलाव के खिलाफ हाईकोर्ट का एडवोकेट जनरल को नोटिस

UP: अल्पसंख्यक शैक्षिक संस्थाओं में भर्ती कानून में बदलाव के खिलाफ हाईकोर्ट का एडवोकेट जनरल को नोटिस
Click for full image

इलाहाबद हाईकोर्ट ने अल्पसंख्यक स्कूलों में प्रिंसिपलों और शिक्षकों की भर्ती के मामले में की गई कानूनी बदलाव के खिलाफ स्कूलों के मनेजरों की रट पर उत्तर प्रदेश के एडवोकेट जनरल को नोटिस जारी किया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

फाजिल अदालत ने इस नये कानून के संबंध में दलील पेश करने के लिए कहा और दो सप्ताह के बाद मामले की सुनवाई की तारीख तय की। रट पर सुनवाई कर रहे चीफ जस्टिस डीबी भोसले और जस्टिस यशवंत वर्मा की बेंच ने दो सप्ताह में जवाब भी माँगा है।

अल्पसंख्यक शैक्षिक संस्थानों के मनेजरों की ओर से एडवोकेट अशोक खरे का कहना था कि इंटरमीडियट एजुकेशन एक्ट के तहत बने कानून में सरकार ने बदलाव करके अल्पसंख्यक स्कूलों में प्रिंसिपल व शिक्षकों की भर्ती के लिए परीक्षा कराने और उसके बाद मनेजरों को इंटरव्यू में नंबर देने की छूट दी है।सरकार के जरिये ही परीक्षा कराने का भी इन्तेजाम है। उन्होंने कहा कि कानून में की गई उस बदलाव से माइनोरिटीज के स्कूलों से नियुक्ति का अधिकार छीन लिया गया है, जो संविधान में दिए गए अधिकारों का उल्लंघन है।

Top Stories