हिन्दू आतंक पर बोले प्रकाश राज, कहा- गाय के शक में किसी को मार देना आतंक नहीं तो क्या है

हिन्दू आतंक पर बोले प्रकाश राज, कहा- गाय के शक में किसी को मार देना आतंक नहीं तो क्या है
Click for full image

नई दिल्ली : कमल हासन के हिन्दू आतंक पर लिखे लेख को अभिनेता प्रकाश राज से समर्थन मिला है। प्रकाश राज ने कमल हासन का समर्थन करते हुए ट्वीट किया है। प्रकाश राज ने #justasking के साथ लिखा है, ‘अगर मेरे देश की सड़कों पर युवा जोड़ों को गाली देना और मारपीट करना आतंक नहीं है, अगर कानून अपने हाथ में लेना और गाय की हत्या के शक में भीड़ का किसी को पीटकर मार देना आतंक नहीं है, अगर लोगों को गालियां देना, ट्रोल करना, धमकाना, विरोधी विचारों को कठोरता से दबाना आतंक नहीं है तो फिर मुझे बताइए आतंक क्या है?’

अपने लेख के लिए कमल हासन के खिलाफ बनारस में आईपीसी की धारा 500, 511, 298, 295(अ) और 505 (स) के तहत मामला दर्ज किया गया है। इससे पहले भाजपा सांसद विनय कटियार ने कहा कि कमल हासन को अपने लेख के लिए माफी मांगनी चाहिए। कटियार ने कहा कि बिना किसी आधार के हासन ने ये लेख लिखा है और इस पर उनको क्षमा मांगनी ही चाहिए, वो राजनीति के लिए इस तरह के बयान नहीं दे सकते। विनय कटियार ने कहा कि कमल हासन का दिमागी संतुलन बिगड़ गया है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जाना चाहिए।

कटियार ने कहा कि वो इसमें कमल पर मानहानि भी करेंगे। कमल हासन के इस लेख पर भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी विरोध करते हुए कहा कि हासन नैतिक तौर पर भ्रष्ट बताया है। स्वामी ने कहा कि ‘हिंदू आतंकवाद’ के कोई सबूत नहीं हैं, ऐसे में ये लेख बेतुका है। भाजपा नेता मुरलीधरन ने भी कमल हासन पर सवाल खड़े किए।

कमल हासन ने तमिल की साप्ताहिक पत्रिका ‘आनंदा विकटन’ में एक लेख लिखा है। इस लेख में हासन ने लिखा है कि पहले पहले राइट विंग के लोग सीधे हिंसा से बचते थे लेकिन अब ये ताकत दिखाते हैं और हिंसा करते हैं। हासन ने लिखा है कि हिंदू कैंपों में आज आतंकवाद का प्रवेश हो चुका है। उन्होंने कहा है कि दक्षिणपंथी लोग अब हिंसा पर उतारू हो रहे हैं और आप ये नहीं कह सकते कि ये ताकते आतंक नहीं फैला रही हैं और देश में हिन्दू आतंकवाद नहीं है।

लेख में हासन ने लिखा है कि पहले पहले राइट विंग के लोग सीधे हिंसा से बचते थे लेकिन अब ये ताकत दिखाते हैं और हिंसा करते हैं। हासन ने लिखा है कि हिंदू कैंपों में आज आतंकवाद का प्रवेश हो चुका है। हासन ने लिखा है कि दक्षिणपंथियों को अगर ‘हिंदू आतंकवादी’ कहा जाता है तो वे किस आधार पर इसे गलत कह सकते हैं।

Top Stories