जिन्ना की जायदाद का एक तिहाई हिस्सा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के नाम है

जिन्ना की जायदाद का एक तिहाई हिस्सा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के नाम है
Click for full image

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की वसीयत में जायदाद का एक तिहाई हिस्सा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के नाम है। जिन्ना ने अपनी वसीयत सन 1939 में लिखी थी। इसमें मुंबई के जिन्ना हाउस समेत अन्य जायदाद का उल्लेख किया गया है। हिंदुस्तान लाइव में छपी खबर के अनुसार, एएमयू इंतजामियां का दावा है वसीयत के अनुसार जायजाद लेने के लिए कभी दावा नहीं किया और न ही करेंगे। जिन्ना से विश्वविद्यालय का कोई मतलब नहीं है।

एएमयू इंतजामियां के अनुसार मोहम्मद अली जिन्ना ने अपनी वसीयत में जायदाद को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, सिंग मदरसा कराची और मदरसा इस्लामियां पंजाब को बराबर हिस्सा दिया। वसीयत का एक तिहाई भाग एएमयू के नाम हैं लेकिन संपत्ति लेने के लिए कभी दावा नहीं किया और न ही भविष्य में किया जाएगा। हालांकि कैंपस के यूनियन हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर सिर्फ इतिहास का हिस्सा है। तस्वीर को सिर्फ मुद्दा बनाया जा रहा है, जो गलत है।

मुंबई का जिन्ना हाउस मोहम्मद अली जिन्ना ने इंग्लेंड से लौटने के बाद 1936 में बनवाया था। लगभग उसी समय मुस्लिम लीग का पूरा नियंत्रण जिन्ना के हाथों में आ गया था। जिन्ना ने इसी हाउस से ही भारत-पाकिस्तान के बंटवारे की योजना बनायी गई थी। जिन्ना इस घर में मुल्क के बंटवारे तक रहे। इसके बाद वे कराची चले गए।

इस मामले में एएमयू के पीआरओ सेल मेंबर इंचार्ज प्रो. शाफे किदवई का कहना है कि पाकिस्तान के जनक मोहम्म्मद अली जिन्ना अपनी वसीयत में अपनी जायदाद का एक तिहाई हिस्सा एएमयू के नाम कर गए थे। यह वसीयत 1939 में लिखी गई थी, लेकिन विश्वविद्यालय ने जिन्ना की विरासत को कभी क्लेम नहीं किया और न ही करेगा।

Top Stories