पाकिस्तान ने 200 हिन्दू तीर्थयात्रियों को कटास राज यात्रा के लिए अनुमति दिया

पाकिस्तान ने 200 हिन्दू तीर्थयात्रियों को कटास राज यात्रा के लिए अनुमति दिया

पाकिस्तान स्थित हिन्दुओं के महाभारत कालीन ऐतिहासिक तीर्थ श्री कटास राज धाम के लिए यात्रा 9 दिसम्बर को यमुनानगर से आरंभ होगी, जोकि 15 दिसम्बर को वापस यमुनानगर पहुंचेगी।

इस यात्रा के संबंध में जानकारी देते हुए केन्द्रीय सनातन धर्म सभा उत्तरी भारत के अध्यक्ष व यात्रा के संयोजक शिव प्रताप बजाज ने पत्रकारों को बताया कि इस यात्रा में देश के विभिन्न राज्यों से 197 तीर्थ यात्री पाकिस्तान जाएंगे।

तीर्थ यात्रा को पाकिस्तान सरकार व विदेश मंत्रालय से हरी झंडी मिल चुकी है। उन्होंने बताया कि 197 तीर्थ यात्रियों की सूची पाकिस्तान हाई कमीशन को भेज दी गई है तथा यात्रियों के पासपोर्ट भी वीजा के लिए दे दिए गए हैं।

पाकिस्तान हाई कमीशन ने बजाज को जानकारी दी है कि वे शीघ्र ही इन 197 तीर्थ यात्रियों के वीजा जारी कर दिए जाएंगे। विदेश मंत्रालय भारत सरकार को भेजे गए यात्रा कार्यक्रम अनुसार तीर्थ यात्रा दल 9 दिसम्बर को बाघा बार्डर से यात्रा के लिए रवाना होगा।

बाघा बार्डर पर पहुंचने से पूर्व जालंधर स्थित पंजाब केसरी कार्यालय में 45 तीर्थ यात्रियों द्वारा इस यात्रा को शुरू करवाने के लिए संघर्ष कर अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाले पंजाब केसरी ग्रुप के संस्थापक अमर शहीद लाला जगत नारायण जी को भी श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी।

बजाज ने बताया कि इस दौरान पाकिस्तान स्थित खियूड़ा साल्ट माइन का भ्रमण भी यात्रा के दौरान किया जाएगा। इंडो-पाक 1974 प्रोटोकाल अनुसार देश से 200 हिन्दू तीर्थ यात्रियों को ही श्री कटास राज यात्रा की अनुमति मिलती है, जिसे बढ़वाने के लिए वे लगातार प्रयास कर रहे हैं।

सभा के कार्यकारी अध्यक्ष सागर बजाज व यात्रा प्रबंधक त्रिलोक चंद तथा रोशन लाल ने बताया कि तीर्थ यात्रा पर जाने वाले यात्रियों से अपील की गई है कि वे अपनी तैयारी रखें। इस बार यात्रा में यात्रियों का उत्साह भी देखते ही बनता है, क्योंकि गत वर्ष सुरक्षा की दृष्टि से यह यात्रा पाकिस्तान जा नहीं सकी थी।

Top Stories