फलस्‍तीनीयों के रिटर्न अॉफ मार्च पर इजरायली सैनिकों का हमला, एक की मौत, कई घायल!

फलस्‍तीनीयों के रिटर्न अॉफ मार्च पर इजरायली सैनिकों का हमला, एक की मौत, कई घायल!

अतिग्रहित पश्चिमी तट में लगातार 38वें शुक्रवार को “वतन वापसी” का अधिकार नामक रैली में शामिल फ़िलिस्तीनियों पर ज़ायोनी सैनिकों ने फ़ायरिंग की जिसमें 1 फ़िलिस्तीनी शहीद और 85 घायल हुए। घायलों में अरबी टीवी चैनल अलआलम का एक पत्रकार भी शामिल है।

न्यूज़ एजेंसी मअन के अनुसार, फ़िलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस घटना की सूचना के साथ ही बताया कि 16 साल का महमूद यूसुफ़ महमूद नख़ला पश्चिमी तट के अलबीरा शहर के उत्तर में स्थित अलजलज़ून शरणार्थी कैंप के निकट ज़ायोनी सैनिक की गोली से शहीद हुआ।

शुक्रवार दोपहर बाद लगातार 38वें शुक्रवार को “प्रतिरोध क़ानूनी अधिकार है” शीर्षक के तहत फ़िलिस्तीनियों ने ग़ज़्ज़ा की नाकाबंदी ख़त्म कराने के लिए अलऔदा शरणार्थी कैंप से पूर्वी ग़ज़्ज़ा की ओर मार्च किया।

ग़ौरतलब है कि “वतन वापसी का अधिकार” नामक शांतिपूर्ण रैली 30 मार्च भूमि दिवस को शुरु हुयी जो अभी तक जारी है। इस रैली के शुरु होने के समय से अब तक ज़ायोनी सैनिकों की गोली से 240 फ़िलिस्तीनी शहीद और 25000 से ज़्यादा घायल हुए हैं।

भूमि दिवस के अवसर पर फ़िलिस्तीनियों की रैली 30 मार्च 1976 को फ़िलिस्तीनियों की भूमि हड़पने से संबंधित ज़ायोनी शासन के फ़ैसले की याद दिलाता है। हर साल फ़िलिस्तीनी 30 मार्च को भूमि दिवस मनाते हैं।

ज़ायोनी शासन फ़िलिस्तीनियों की भूमि हड़प और वहां ज़ायोनी बस्तियों का निर्माण कर फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों की भौगोलिक व जनांकिकीय संरचना को बदलना और उसे ज़ायोनी रूप देना चाहता है ताकि इस तरह फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों पर अपना वर्चस्व क़ायम कर सके।

साभार- ‘parstoday.com’

Top Stories