फलस्तीन पुरी इस्लामिक देशों के लिए सबसे बड़ी समस्या है- हमास

फलस्तीन पुरी इस्लामिक देशों के लिए सबसे बड़ी समस्या है-  हमास

प्रतिरोध आंदोलन हमास ने फ़िलिस्तीन समस्या को इस्लामी जगत की सबसे बड़ी समस्या बताया है। हमास ने सेंचुरी डील के ख़िलाफ़ सभी फ़िलिस्तीन के प्रतिरोध आंदोलनों को एकजुट होकर मुक़ाबला करने की अपील की है।

 

पार्स टुडेे पर छपी रिपोर्ट के मुताबिक़, प्रतिरोध आंदोलन हमास के प्रमुख इस्माइल हनिया के कार्ययालय से जारी होने वाले बयान में कहा गया है कि, उनका संगठन अमेरिका की नापाक सेंचुरी डील की योजना से मुक़ाबले के लिए व्यापक स्तर पर रणनीति तैयार करने के लिए सभी प्रतिरोध आंदोलनों की आपातकालीन बैठक की मेज़बानी करने के लिए तैयार है।

 

 

बयान में आया है कि हमास सेंचुरी डील का खुले तौर पर विरोध करता है। बयान के अनुसार, फ़िलिस्तीन के प्रतिरोध आंदोलनों की एकजुटता दुश्मन की इस साज़िश को नाकाम बनाने में सबसे अहम रोल अदा करेगा।

 

 

इस बीच जेहादे इस्लामी संगठन के नेता ख़ालिद अलबत्श ने गज़्ज़ा में एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि, अमेरिका ने ट्रम्प के नेतृत्व में फ़िलिस्तीनी राष्ट्र के ख़िलाफ़ युद्ध की घोषणा कर दी है। उन्होंने कहा कि अमेरिका की फ़िलिस्तान विरोधी कार्यवाहियों पर अरब देशों की चुप्पी खेद जनक है।

 

ख़ालिद अलबत्श ने कहा कि डोनल्ड ट्रम्प अरब देशों की कमियों और उनके स्टैंड में पाए जाने वाले मतभेदों से फ़ायदा उठाते हुए फ़िलिस्तीनी राष्ट्र की आकांक्षाओं को तबाह कर देना चाहते हैं।

 

जेहादे इस्लामी संगठन के नेता ने बल देकर कहा कि, फ़िलिस्तीनी जनता किसी को बी बैतुल मुक़द्दस पर क़ब्ज़ा करने की अनुमति कभी नहीं देगी।

Top Stories