पाकिस्तान में पहली बार दूसरी शादी करने पर जुर्माना और 6 महीने की क़ैद

पाकिस्तान में पहली बार दूसरी शादी करने पर जुर्माना और 6 महीने की क़ैद
Click for full image

एक पाकिस्तानी अदालत ने पहली पत्नी की इजाजत के बिना दूसरी शादी करने पर एक वयक्ति को सजा सुनाई है। महिला अधिकार कार्यकर्ताओं ने इस न्यायिक निर्णय का स्वागत किया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

जुडीशियल मजेसट्रेट अली जव्वाद नकवी ने लाहौर की एक निचली अदालत में एक व्यक्ति को पहली पत्नी से इजाजत लिए बगैर दूसरी शादी करने पर दो लाख रुपये जुर्माना और छह महीने कैद की सजा सुनाई। पाकिस्तान में 2015 में बन्ने वाली फैमिली ला के तहत किसी व्यक्ति को पहली बीवी से इजाजत लिए बगैर दूसरी शादी करना एक अपराध योग्य बताया है।

इस अपराधी की पत्नी आयशा बीबी ने अदालत में आवेदन दी थी कि उसके पति शहजाद साक़िब ने उनसे इजाजत लिए बगैर दूसरी शादी कर ली। अपनी याचिका में आयशा ने रुख इख़्तियार किया था कि दूसरी शादी के लिए उसके पति को उनसे इजाजत लेना चाहिए थी, पर उसने ऐसा नहीं किया।

अदालत ने आयशा बीबी के पति की ओर से पेश किये गये उन तर्कों को रद्द कर दिया, जिसमें कहा गया था कि इस्लाम चार शादियों की इजाजत देता है और दूसरी या अन्य शादियों के लिए पहली पत्नी से इजाजत लेने की निर्देश नहीं देता।

Top Stories