Thursday , April 26 2018

ब्रिटिश सरकार की मुखबिरी करने वाले लोग ही लेनिन, आंबेडकर की मूर्तियां तोड़ रहे हैं: दीपांकर भट्टाचार्य

नई दिल्ली: त्रिपुरा में भाजपा की जीत के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा प्रतिष्ठित एवं गौरवान्वित लोगों का जगह जगह मूर्तियां तोड़े जाने पर भाकपा के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने एक बड़ा बयान दिया है। उनहोंने कहा है कि ये वही लोग हैं जो ब्रिटिश सरकार की मुखबिरी करते हैं, ऐसे ही लोग आज लेनिन और अन्य महानायकों की मूर्तियां तोड़ रहे हैं।

खबर के मुताबिक, भाकपा के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने पार्टी कार्यालय में संवाददाताअों से बातचीत करते हुए कहा है कि लेनिन की मूर्तियां तोड़ने वालों से पूछा जाना चाहिए कि लेनिन की मूर्ति बनी क्यों थी। जिन महानायकों की मूर्तियां तोड़ी गई है या तोड़ने की कोशिश की गई है, उन सब के बीच एक लिंक है। त्रिपुरा की जीत के बाद भाजपा वहां तांडव कर रही है।

उन्होंने एनडीए को नेशनल डिजास्टर एलायंस बताते हुए कहा कि ये सभी गैर बराबरी के खिलाफ लड़नेवाले लोग थे। भाजपा के लोगों को समझना चाहिए कि लेनिन आजादी के आंदोलन के प्रेरणास्रोत थे और हमारे देश के क्रांतिकारी भगत सिंह भी लेनिन से प्रेरित थे। उनहोंने कहा कि ब्रिटिश सरकार की मुखबिरी करने वाले ऐसे ही लोग आज लेनिन की मूर्तियां तोड़ रहे हैं।

बता दें कि त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव में सीपीएम की हार और भाजपा की जीत के बाद बेलोनिया के सेंटर ऑफ़ कॉलेज स्कॉयर में रूसी क्रांति के नायक और वामदल विचारधारा के प्रतीक व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति को ‘भारत माता की जय’ नारे लगाती भीड़ ने गिरा दिया गया।

इसके बाद तमिलनाडु में पेरियार और उत्तर प्रदेश में डॉ. भीमराव आंबेडकर की मूर्ति को नुकसान पहुंचाने की खबर सामने आई। इसके अलावा बुधवार को पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में भी श्यामा प्रसाद मुखर्जी की एक मूर्ति के साथ छेड़छाड़ की गई है।

TOPPOPULARRECENT