Friday , April 20 2018

खतरनाक हो सकता है बोतलबंद पानी, अध्ययन में मिले प्लास्टिक के छोटे कण

पानी की बोतलों पर हुए एक अध्ययन में वैज्ञानिकों को पानी में प्लास्टिक के बहुत छोटे कणों का पता चला है। एक अमेरिकी स्टडी में दावा किया गया है कि 93 फीसदी बोतलबंद पानी में प्लास्टिक के सूक्ष्म कण और इंसानों के लिए हानिकारक तत्व मौजूद रहते हैं। जिन ग्लोबल ब्रैंड्स के सैंपल लिए गए उनमें एक्वाफिना और बिसलरी भी शामिल हैं।

भारत सहित दुनिया के कई देशों में बोतलबंद पानी उपलब्ध कराने वाली कंपनियों के सैंपल लिए गए थे। स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क के शोधकर्ताओं ने अमेरिका में 27 अलग-अलग जगहों से 259 बोतलों की जांच की। भारत में नई दिल्ली, चेन्नई, मुंबई से भी सैंपल लेकर जांच की गई।

जांच में 93 फीसदी से ज्यादा बोतलबंद पानी में माइक्रोप्लास्टिक पाए गए। पिछली बार की स्टडी में नल के पानी में पाए गए प्लास्टिक कणों से यह 2 गुना है। इसमें पॉलीप्रोपलीन, नायलॉन और पॉलीथिलीन टेरेफ्थेलेट जैसे तत्व मौजूद रहते हैं। अध्ययन में बताया गया है कि जो व्यक्ति एक दिन में एक लीटर बोतल बंद पानी पीता है वह प्रतिवर्ष प्लास्टिक के 10 हजार तक सूक्ष्म कण ग्रहण करता है।

शोधकर्ता अभी मानव शरीर पर पड़ने वाले इसके दुष्प्रभाव के बारे में सुनिश्चित नहीं हैं। पांच महाद्वीपों में भारत, ब्राजील, चीन, इंडोनेशिया, केन्या, लेबनान, मैक्सिको, थाईलैंड और अमेरिका में 19 स्थानों से नमूने एकत्र किए गए। बोतलबंद पानी में प्लास्टिक के अदृश्य कणों को देखने के लिए शोध दल ने विशेष डाई और नीली रोशनी का उपयोग किया।

TOPPOPULARRECENT