Tuesday , July 17 2018

PM मोदी ने जिस सी-प्लेन का किया इस्तेमाल, उस कंपनी से केंद्र ने कर रखा है 2 हजार करोड़ का समझौता!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जिस सी-प्लेन की चारों तरफ चर्चा है, उसकी व्यवस्था गुजरात के एक ऐसे कारोबारी ने की थी, जिसके साथ केंद्र सरकार ने 2000 करोड़ रुपए का समझौता किया है।

इतना ही नहीं, अमेरिका की जिस कंपनी से ये विमान मंगाया गया था, उसका साफ कहना है कि उसके पास जो भी एयरक्राफ्ट हैं, उनके असली मालिक अपना नाम छिपाना चाहते हैं।

इसके अलावा जिस एक इंजिन वाले सी-प्लेन पर सवार होकर साबरमती की लहरों पर मोदी उतरे थे, वह पाकिस्तान के कराची शहर से आया था, और यह अभी तक साफ नहीं है कि उसकी गहनता से जांट-पड़ताल हुई थी या नहीं।

इन तीनों बिंदुओं से साफ होता है कि ये न सिर्फ हितों के टकराव का मामला है, बल्कि इसमें बहुत बड़ी सुरक्षा चूक भी हुई है।

दरअसल प्रधानमंत्री के इस सी-प्लेन करतब का आयोजन “आईकॉनिक एकता वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड” ने किया था। इस कंपनी ने केन्द्र सरकार के साथ “पर्यटन के विकास” के लिए 2000 करोड़ रुपये का समझौता किया है।

हालांकि पर्यावरण और सुरक्षा कारणों के चलते इस प्रोजेक्ट को अभी आखिरी मंजूरी मिलनी बाकी है, लेकिन माना जा रहा है कि कंपनी ने चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मोदी की सी-प्लेन उपलब्ध कराकर प्रोजेक्ट को मंजूरी दिलाने के लिए माहौल बनाया है।

इस कंपनी के प्रमोटर और मैनेजिंग डायरेक्टर हिमांशु पटेल ने नवजीवन को बताया कि उनकी कंपनी पिछले चार साल से वॉटर स्पोर्ट्स, इको एडवेंचर और गुजरात के पहाड़ी इलाकों में “पर्यटन के विकास” के प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। उन्होंने दावा किया कि, “हम अपने आप को भाग्यशाली समझते हैं कि खुद प्रधानमंत्री मोदी ने इस प्रोजेक्ट पर अपनी रुचि दिखाई।”

हिमांशु पटेल ने आगे बताया, “हमने तीन साल पहले यानि 2014 में सी-प्लेन का मुंबई में ट्रायल किया था। इस सिलसिले में कंपनी ने 2016 में आयोजित ‘अतुल्य भारत’ कार्यक्रम के दौरान केंद्र सरकार के साथ 2000 हज़ार करोड़ रुपए के एमओयू पर हस्ताक्षर किये हैं।”

रोचक तथ्य यह है कि जिस कंपनी ने केंद्र के साथ 2000 करोड़ रुपए का समझौता किया है, उसकी स्थापना और इनकार्पोरेशन ही सितंबर 2016 में हुआ है और इसकी अथॉराइज़्ड और पेड-अप कैपिटल एक लाख रुपए है। ऐसी कंपनी के साथ महज एक साल में ही 2000 करोड़ रुपए का समझौता कई सवाल खड़े करता है।

सौजन्य- नवजीवन

TOPPOPULARRECENT