हाथरस में प्रदर्शन के दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस ने मेरे कपड़े फाड़े- अमृता

हाथरस में प्रदर्शन के दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस ने मेरे कपड़े फाड़े- अमृता

हाथरस में बिटिया से दरिंदगी की घटना के बाद गुरुवार को पीड़ित परिजनों से मिलने जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

अमर उजाला पर छपी खबर के अनुसार, उन्हें बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट स्थित गेस्ट हाउस ले गए। हालांकि पुलिस ने कुछ देर बाद उन्हें दिल्ली बॉर्डर पर छोड़ दिया। इस बीच कांग्रेस की दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष अमृता धवन ने यूपी पुलिस पर उनके कपड़े फाड़ने का आरोप लगाया है।

उन्होंने ट्विटर पर इस बात की जानकारी देते हुए लिखा, ‘योगी-मोदी के संस्कारों का प्रमाण है ये ताकत दिखानी है तो अपराधियों को दिखाओ, हमारा चीर हरण करके क्या हासिल होगा ??? याद रखना द्रौपदी चीर हरण और सीता हरण का अंत कहां जाकर थमा था!!’

दरअसल राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस पीड़िता के घर उससे मिलने हाथरस जा रहे थे। पुलिस ने उन्हें ग्रेटर नोएडा में रोक दिया जहां उनकी पुलिस अधिकारियों के साथ काफी देर तक बहस भी हुई।

इस बीच पुलिस ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए तीन से चार बार लाठियां भांजीं। यहां तक की पुलिस ने राहुल गांधी से भी धक्का-मुक्की की।

वे जमीन पर गिर गए। उनके हाथ में हल्की चोट आई है। करीब तीन घंटे तक चले हाईवोल्टेज ड्रामे के दौरान यमुना एक्सप्रेसवे पर भी सैकड़ों वाहन ट्रैफिक जाम में फंसे रहे। इस दौरान कांग्रेस के कई कार्यकर्ताओं को चोटें आईं।

राहुल और प्रियंका दोपहर करीब 1:21 बजे यमुना एक्सप्रेस के जीरो प्वाइंट पर पहुंचे। उनके साथ कांग्रेस नेताओं का काफिला भी था। उनमें मुख्य रूप से राजीव शुक्ल, रणदीप सुरजेवाला, दीपेंद्र सिंह हुड्डा, आचार्य प्रमोद कृष्णम, रागिनी नायक और पीएल पुनिया शामिल थे।

पुलिस ने जीरो प्वाइंट से राहुल व प्रियंका गांधी की गाड़ियों को जाने दिया लेकिन दूसरे नेताओं की गाड़ियों को रोक दिया। यह देखकर कांग्रेस कार्यकर्ता उनकी गाड़ियों के पीछे दौड़ने लगे। इसे देखकर राहुल और प्रियंका गाड़ियों से उतर गए और पैदल ही जाने लगे।

पुलिस ने अन्य कांग्रेसियों को रोकने की कोशिश की। लेकिन उनके नहीं मानने पर लाठीचार्ज कर दिया। वहां से राहुल और प्रियंका सहित सभी कांग्रेसी यमुना एक्सप्रेसवे की दूसरी तरफ चले गए और पैदल ही जाने लगे।

पुलिस ने बीच में फिर रोकने का प्रयास किया और बल प्रयोग किया। दोपहर करीब ढाई बजे राहुल व प्रियंका गांधी समेत सभी कांग्रेसी करीब पांच किलोमीटर तक चले। जीबीयू के सामने हाइवे पर पुलिस ने घेराबंदी कर दी।

भारी भीड़ होने की वजह से सभी कार्यकर्ताओं को वहीं रोक दिया। वहां भी पुलिस के साथ नोकझोंक हुई। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग भी किया।

यहीं पर राहुल गांधी को पुलिस ने धक्का दे दिया। इससे वह जमीन पर गिर पड़े। हाथ में मामूली चोट भी लगी। उनका कुर्ता भी गंदा हो गया। वहां करीब एक घंटे तक हंगामा होता रहा।

Top Stories