Saturday , September 22 2018

अफराज़ुल की निर्दयी हत्या करने वाले शंभूलाल का समर्थन करने वालों को पुलिस करेगी गिरफ़्तार

राजसमंद : राजस्थान के राजसमंद में क़त्ल का वीडियो बनाकर वायरल करने वाले शंभूलाल रैगर का समर्थन करने वालों को पुलिस गिरफ़्तार करेगी. राजसमंद हत्याकांड के बाद राजसमंद और उदयपुर के कुछ व्हाट्सएप ग्रुपों में शंभुलाल की जय जयकार की गई है. सोशल मीडिया और व्हॉट्सऐप पर शंभूलाल की ‘तारीफ़’ वाले संदेश शेयर किए जा रहे हैं

राजस्थान पुलिस का कहना है कि शंभूलाल का समर्थन करने वाले लोगों को चिन्हित किया जा रहा है और अगले एक-दो दिनों में उन्हें गिरफ़्तार कर लिया जाएगा.

उदयपुर के पुलिस महानिरीक्षक आनंद श्रीवास्तव ने कहा है कि “जघन्य अपराध करने वाले शंभूलाल का समर्थन कुछ व्हास्टएस ग्रुपों में किया गया है. हम धार्मिक उन्माद भड़काने वालों की पहचान कर रहे हैं. अगले एक-दो दिनों में गिरफ़्तारियां की जाएंगी.”

आनंद श्रीवास्तव स्वीकार करते हैं कि सोशल मीडिया की वजह से तनाव बढ़ रहा है और ऐसे वीडियो को वायरल होने से पहले रोकना मुश्किल होता जा रहा है. वो कहते हैं, “हमारे पास जो क़ानूनी शक्तियां हैं उनके तहत हम वीडियो वायरल होने के बाद इसके पीछे जो लोग हैं, उन्हें गिरफ़्तार तो कर सकते हैं, लेकिन वीडियो को वायरल होने से नहीं रोक सकते.”

राजसमंद की घटना की प्रतिक्रिया में कोई घटना नहीं हुई. लेकिन इसकी वजह से शहर में तीन दिन इंटरनेट सेवाएं बंद रहीं. पुलिस बल भी भारी तादाद में तैनात किए गए.

श्रीवास्तव कहते हैं, “हमारी पहली प्राथमिकता अभियुक्त को गिरफ़्तार करने की थी और हमने चौबीस घंटों के भीतर उसे गिरफ़्तार कर लिया. इससे लोगों का ग़ुस्सा और ज़्यादा नहीं भड़का. हालात बेहद नाज़ुक थे इसलिए हमने दोनों समुदायों के लोगों को भरोसे में लिया.”

घटना के बाद कई बंगाली प्रवासी वापस भी लौट गए हैं. श्रीवास्तव कहते हैं कि पुलिस ने प्रवासियों को सुरक्षा का भरोसा दिया है और उनके क्षेत्र में नई पुलिस पिकेट स्थापित की है.

TOPPOPULARRECENT