Sunday , April 22 2018

उर्दू जुबान को बढ़ावा देने के लिए इसे रोज़गार से जोड़ कर समाज के केंद्रीय धारे से जोड़ने की ज़रूरत: गवर्नर, राम नाइक

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक ने कहा है कि उर्दू जुबान को बढ़ावा देने के लिए रोजगार से जोड़कर इसे समाज के केंद्र धरा से जोड़ने की ज़रूरत है। श्री नायक पिछले दिनों ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती उर्दू, अरबी, फारसी विश्वविद्यालय, लखनऊ और मौलाना आजाद इंस्टीट्यूट ऑफ़ ह्युमानीटीज एंड टेक्नोलॉजी सीतापुर की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित किये गये दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय उर्दू कांफ्रेंस में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

राज्यपाल ने कहा कि उर्दू सभी को जोड़ने वाली भारतीय भाषा है। उर्दू किसी विशिष्ट वर्ग की भाषा नहीं है, क्योंकि भारतीय संविधान में इसे मंजूरी दी गई है। उर्दू भाषा ने देश के कई ऐसे लेखक और विद्वान दिए हैं जो एक विशिष्ट वर्ग के नहीं हैं।
फिराक गोरखपुरी, चकबसत, प्रेम चंद, गोपी चंद नारंग जैसे कई उर्दू साहित्यकार उर्दू को अमर बनाया है।

TOPPOPULARRECENT