पाकिस्तान: स्कूली बच्चों को क़ुरआन की शिक्षा देने के लिए क़ानून

पाकिस्तान: स्कूली बच्चों को क़ुरआन की शिक्षा देने के लिए क़ानून
Click for full image

पाकिस्तान की असेंबली ने बुधवार को सरकारी स्कूलों में एक से लेकर 12 वीं क्लास के मुस्लिम छात्रों को अनिवार्य रूप से क़ुरआन पढ़ाये जाने से जुड़ा विधेयक पारित कर दिया।

इसमें कहा गया कि एक से लेकर पांचवीं क्लास के छात्र क़ुरआन को अरबी भाषा में पढ़ेंगे जबकि 6 से 12 क्लास के छात्र उर्दू अनुवाद के साथ क़ुरआन पढ़ना सीखेंगे।

हालाँकि विधेयक में साफ़ कहा गया है कि यह नियम सिर्फ मुस्लिम छात्रों के लिए है। यह कानून देश के सभी राज्यों के शैक्षिक संस्थानों पर लागू होगा।

वहीँ, सरकार ने यह भी कहा कि क़ुरआन की तालीम पर प्रांत अलग-अलग कानून बना सकते हैं।

विशेषज्ञों का कहना है कि इस कानून का मकसद सभी पाकिस्तानी मुसलमानों को क़ुरआन की तालीम देना है। इस विधेयक के कानून बनने के लिए राष्ट्रपति ममनून हुसैन की मंज़ूरी की जरूरत होगी।

Top Stories