Wednesday , September 26 2018

अदालत को सौंपी गई रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे, साधुओं को नपुंसक बनाने के वक़्त मौजूद रहता था राम रहीम

डेरा सच्चा सौदा के सैंकड़ों साधुओं को जबरन नपुंसक बनाए जाने के मामलों की जांच सीबीआई कर रही है. इसी बीच सीबीआई की टीम ने अदालत को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक गुरमीत राम रहीम ने वर्ष 1999 में सामूहिक तौर पर डेरे के साधुओं को नपुंसक बनाने की घोषणा की थी. ऑपरेशन के वक्त खुद मौजूद रहता था बाबा गुरमीत राम रहीम ने डेरे में ऐलान करते हुए कहा था कि वह साधुओं को नपुंसक बनाना चाहता है ताकि उनका ध्यान गलत रास्तों की और ना भटके. अहम बात ये कि साधुओं को नपुंसक बनाए जाने के वक्त राम रहीम खुद वहां मौजूद रहता था. सीबीआई रिपोर्ट के मुताबिक साधुओं के बधियाकरण के ऑपरेशन के समय वह ऑपरेशन थिएटर में खुद मौजूद रहता था. बाबा की गुफा में भी होते थे ऑपरेशन सीबीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि अपनी बदनाम गुफा में भी उसने जबरन कई साधुओं को नपुंसक बनाया. वह पुरुष साधुओं को अपनी बदनाम गुफा में भी नपुंसक बनवाता था. इसके बाद गुरमीत राम रहीम नपुंसक बनाए गए साधुओं के साथ कई किस्म के खेल भी खेलता था. उन पर उसकी विशेष कृपा रहती थी. नपुंसक बनाए गए साधु गुरमीत राम रहीम से खुलकर मिल सकते थे. नपुंसक बनाए गए ज्यादातर थे युवा वर्ष 1999 से 2000 के बीच डेरे में नपुंसक बनाए गए ज्यादातर साधु युवा थे. उनको डरा-धमकाकर और ईश्वर से मिलाने के नाम पर बधिया किया गया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि गुफा के अलावा बधियाकरण के ऑपरेशन सिरसा स्थित शाह सतनाम जी स्पेशलिटी हॉस्पिटल, डेरा प्रिंटिंग प्रेस परिसर, सिरसा और राजस्थान के श्रीगंगानगर जिला के गुरुसर मोडिया स्थित शाह सतनाम जी जनरल हॉस्पिटल में भी करवाए गए थे. डेरे के डॉक्टरों की करतूत साधुओं को जबरन नपुंसक बनाने के लिए सर्जरी डेरे के डॉक्टर एमपी सिंह और डॉक्टर पंकज गर्ग ने की थी. सीबीआई इस मामले में डेरा सच्चा सौदा के वाइस चेयरपर्सन डॉक्टर पी.आर. नैन की भूमिका भी जांच रही है, जो फिलहाल डेरे से फरार है.

TOPPOPULARRECENT