Thursday , January 18 2018

ज़रूरी नहीं है कि जिसके पास सत्ता हो, उसमें सच्चाई हो: राहुल गांधी

पटना। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा है कि कोई जरूरी नहीं है कि जिसके पास सत्ता हो, उसमें सच्चाई हो।। कांग्रेस उपाध्यक्ष चंपारण सत्याग्रह की 100वीं सालगिरह के मौके पर पटना में एक कार्यक्रम में बोल रहे थे।

मोदी सरकार पर देश में नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए राहुल गाँधी ने कहा कि चाहे सत्ता में कोई भी हो, अगर देश में नफरत फैलाने की कोशिश करेगा तो जनता बर्दाश्त नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि भारत ने साल 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ पहली लड़ाई लड़ी। इस लड़ाई में हिंदू, मुसलमान, सिख सभी एक साथ लड़े। पहले यह सोच थी कि आजादी की जरुरत नहीं है, लोग सोचते थे कि हम अंग्रेजों के साथ अपना जीवन गुजार सकते हैं।

लेकिन जलियांवाला बाग जैसी सच्चाई को गांधी जी ने देखा तो उन्होंने अपना मन बदला। जलियांवाला बाग में न हिंदू मरे थे, न मुसलमान न सिख, वहां हिंदुस्तानी मरे थे। राहुल ने कहा कि हिंदू होने का मतलब सच्चाई की रक्षा करना है।

TOPPOPULARRECENT