Wednesday , September 26 2018

अफराजुल के बाद अब मस्जिद के इमाम को जिंदा जलाने की कोशिश

अलीगढ़। अभी कुछ दिन पहले राजस्थान में एक मुस्लिम को लव जेहाद के नाम पर जिंदा जला दिया गया। मानवता को शर्मसार करने वाली इस घटना का वीडियो बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ। आए दिन ऐसे घटनाएं देखने को मिल रही हैं। अब एक और चौका देने वाला मामला यूपी, जहाँ योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री हैं, में सामने आया है।

अलीगढ़ के जट्टारी कस्बे में पुलिस चौकी से महज तीस मीटर दूर स्थित जामा मस्जिद के इमाम को जिंदा जलाने की कोशिश की गई। यह घटना गुरुवार रात करीब साढ़े दस बजे की है। मस्जिद परिसर में बने कमरे में सोते समय इमाम के कमरे का दरवाजा बाहर से बंद करने के बाद खिड़की से पेट्रोल डालकर आग लगा दी गई।

दैनिक अखबार अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मस्जिद के इमाम ने खुद को किसी तरह बचाते हुए मोबाइल से मोहल्ले के परिचितों को फोन किया, जिस पर मोहल्लेवासी भागते हुए पहुंचे और दरवाजा खोलकर उनको बाहर निकाला गया। कमरे के अंदर बिस्तर, चारपाई और किताबें आदि जल चुकी थी। कमरे के बाहर बोतल भी मिली है, जिससे पेट्रोल की बदबू आ रही थी।

मामले की जानकारी होते ही नगर पंचायत जट्टारी के पूर्व चेयरमैन चौ. मनवीर सिंह समेत कुछ व्यापारी एवं मुस्लिम समाज के लोग मस्जिद में पहुंच गए। सूचना पर जट्टारी चौकी इंचार्ज पहुंच गए। पूर्व चेयरमैन चौधरी मनवीर सिंह ने एसएसपी राजेश पांडेय से बात की। 29 वर्षीय इमाम साबिर रजा, बिहार के पूर्णिया जिले के निवासी हैं। करीब एक साल से वह जामा मस्जिद में इमाम हैं। मस्जिद परिसर में कमरे में रहते हैं। इमाम के अनुसार रात करीब साढ़े दस बजे आंख मूंदे कमरे के अंदर खिड़की के किनारे लेटे थे।

किसी की आहट पर कई बार आवाज लगाई, लेकिन बाहर से किसी ने आवाज नहीं दी। अचानक खिड़की पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी गई। इससे भयभीत होकर वह दरवाजे की ओर भागे तो दरवाजे की कुंडी बाहर से लगी थी। उधर कमरे में मच्छरदानी, चारपाई, कपड़े, किताबें आदि जलने लगे।

इमाम के अनुसार आग से बचते हुए मोबाइल से परिचितों को फोन किया जिन्होंने आकर बाहर निकाला। इमाम के अनुसार उनका आज तक किसी से विवाद नहीं हुआ। सूचना पाकर सीओ और इंस्पेक्टर ने मौके पर पहुंच कर मामले की जानकारी ली। हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि इमाम को जिंदा जलाने की कोशिश किसके द्वारा की गई है।

TOPPOPULARRECENT