देश में अच्छे नेता होने के बाद भी हालात बिगड़ते जा रहे हैं: रजनीकांत

देश में अच्छे नेता होने के बाद भी हालात बिगड़ते जा रहे हैं: रजनीकांत

सुपरस्टार रजनीकांत ने शुक्रवार को कहा कि राजनीति में अच्छे नेता मौजूद हैं, पर व्यवस्था में भ्रष्टाचार है। उन्होंने चेन्नई में अपने प्रशंसकों की भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि यह उनके राजनीति में आने का सही समय नहीं है।

रजनीकांत प्रशंसकों की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच कहा, “मेरा अपना पेशा है, अपना काम है। मेरी कुछ जिम्मेदारियां हैं और आपके पास भी अपने काम हैं। जाइये और अपने काम कीजिए। हम तब मिलेंगे जब जंग का समय होगा।”

इससे पहले बुधवार को प्रशंसकों के साथ एक फोटो सत्र के बाद उन्होंने संवाददाताओं के सवालों के जवाब में कहा था, “अगर ईश्वर की मर्जी होगी तो मैं राजनीति में आऊंगा।” अभिनेता ने साथ ही स्पष्ट किया कि वह राजनीतिक व्यवस्था के खिलाफ हैं, किसी नेता के नहीं।

उन्होंने कहा, “हमारे पास (एमके) स्टालिन, अंबुमणि (रामदास) और सीमन जैसे अच्छे नेता हैं। लेकिन जब राजनीतिक व्यवस्था ही खराब हो और लोकतंत्र में गिरावट आ गई हो तब हम क्या करें। इस व्यवस्था में बदलाव लाने की जरूरत है और लोगों की मानसिकता में बदलाव लाने की जरूरत है। तभी यह देश फलेगा-फूलेगा।”

Top Stories