Saturday , December 16 2017

गैंगरेप पीड़िता की FIR नहीं हुई दर्ज, तो सबूत के तौर पर पेश कर दिया अपना कटा हुआ कान

एक महिला 5 अक्तूबर को अलीगढ़ के वरिष्ठ अधीक्षक पुलिस के कार्यालय में गई और सबूत के तौर पर अपना एक कटा हुआ कान पेश कर दिया। हिंदूस्तान टाइम्स के अनुसार, उसने यह इसलिए किया क्योंकि पुलिस उसके साथ हुए सामूहिक बलात्कार की एफआईआर दर्ज नहीं कर रही थी, अतः उसने सबूत के तौर पर अपने कटे हुए कान को पेश करने का फैसला लिया।

एचटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, महिला ने अपना कटा हुआ कान पुलिस अधिकारी (ग्रामीण) यशवीर सिंह के सामने पेश कर दिया, क्योंकि वरिष्ठ अधिकारी वहां उपस्थित नहीं थे। उसने यह भी शिकायत की कि पुलिस ने दो दिनों के बाद भी उसके मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी।

सिंह ने फिर दो एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया – इस मामले में दोनों पक्षों ने एफआईआर दर्ज करा दी है।

महिला ने कहा कि केवल जानकारी इकट्ठा करने के लिए पुलिस ने उन्हें गुमराह किया। एचटी रिपोर्ट के अनुसार, पीड़ित ने कहा कि जब वह अगली सुबह पुलिस थाने में गई, पुलिस ने कई औपचारिकताएं पूरी कीं लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं की।

महिला ने एचटी को बताया कि वह सोमवार की रात अपने बच्चों के साथ सो रही थी, जब उसके पड़ोस के चार लोग उसके घर आए और उसके साथ बलात्कार किया।

जब उसका पति, जो घर के बाहर एक अस्थायी कमरे में सो रहा था, रोने की आवाज़ सुनकर उसे बचाने के लिए गया तो उसके साथ भी मार पीट कर दी।

हमलावरों ने इस दंपत्ति को धमकी दी कि अगर घटना के बारे में किसी को भी बताया तो उसके लिए अच्छा नहीं होगा।

एक अलग घटना में लखनऊ के महिलाबाद इलाके में पांच लोगों ने एक महिला को यौन उत्पीड़न के प्रयासों का सक्रिय रूप से विरोध करने के लिए गोली मार दी। महिला, एक 19 वर्षीय बीए छात्रा है, उसे ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया जहां उसने पांच हमलावरों के खिलाफ अपना बयान दिया।

पुलिस ने पांच लोगों में से चार को गिरफ्तार कर लिया और पांचवें की तलाश में है, जिन्हें भी पहचान लिया गया है। पुलिस ने भी इनकार कर दिया है कि चार लोग उसके साथ बलात्कार में सफल रहे।

हमलावरों ने पीड़िता की नाक पर गोली मार दी थी। फिलहाल महिला अब ख़तरे से बाहर है।

TOPPOPULARRECENT