Thursday , August 16 2018

हरियाणा : अतिरिक्त मुख्य सचिव यौन उत्पीड़न के आरोपों पर लाई डिटेक्टर परीक्षण से गुजरने को तैयार

महिला आईएएस अधिकारी द्वारा लगाए गए यौन शोषण के आरोपों को हरियाणा सरकार के पशुपालन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव सुनील गुलाटी ने निराधार बताया है। इस मुद्दे पर पत्रकारों से बात करते हुए गुलाटी ने जोर देकर कहा कि उन्होंने उनके सामने कुछ समस्याओं के बारे में जानने के बाद उन्हें मदद करने की कोशिश की।

इन आरोपों को आधारहीन बताते हुए गुलाटी ने कहा कि वह जांच के लिए तैयार हैं और यदि आवश्यक हुआ तो वे लाई-डिटेक्टर परीक्षण से गुजरने के लिए भी तैयार हैं।

उन्होंने यह भी दावा किया कि 28 वर्षीय अधिकारी को सलाह दी गई थी कि उन फाइलों की गलतियों को न ढूंढें जिन्हें अन्य अधिकारियों से सभी आवश्यक मंजूरी मिली है। दूसरी तरफ, महिला आईएएस अधिकारी ने एएनआई से बात करते हुए अपने आरोपों को दोहराया है।

उन्होंने कहा, ‘सुनील गुलाटी ने यौन उत्पीड़न किया और मुझे धमकी दी। जब मुझे अंबाला, कोस्ली और दबवाली में तैनात किया गया था तब भी ऐसी घटनाएं मेरे साथ पहले हुई थीं। मैंने इसके बारे में अधिकारियों से शिकायत की लेकिन आज तक उनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया।

अपने सोशल मीडिया पोस्ट में महिला ने उल्लेख किया कि पुरुष अधिकारी ने उसे 22 मई को बुलाया और उसे धमकी दी। इसके अलावा उन्होंने उनकी वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट (एसीआर) खराब करने की भी धमकी दी।

वरिष्ठ अधिकारी ने उसे 31 मई को बुलाया और अपने कर्मचारियों को निर्देश दिया कि इस दौरान किसी अन्य व्यक्ति को अंदर प्रवेश नहीं करने दिया जाए। 6 जून को वरिष्ठ अधिकारी ने उन्हें 5 बजे अपने कार्यालय में बुलाया और उनसे 7.39 बजे तक वहां रहने के लिए कहा।

“मैं उसके सामने टेबल के दूसरी तरफ थी। उसने मुझे उठने और अपनी कुर्सी के करीब आने के लिए कहा। जब मैं टेबल के दूसरी तरफ पहुँची, तो मुझे सिखाया कि कंप्यूटर कैसे संचालित करें।

मैं अपनी कुर्सी पर वापस चली गई और कुछ समय बाद, वह उठ गए। एक पेपर ढूंढने का नाटक करते हुए वह मेरी कुर्सी के करीब आये। 2014 बैच की महिला अधिकारी ने यह भी दावा किया कि वरिष्ठ अधिकारी और उनके कुछ सहयोगी अब उसे धमकी दे रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT