बांग्लादेश में रोहिंग्या मुस्लिम खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर, खाना-पानी व अन्य चीज़ों की दरकार

बांग्लादेश में रोहिंग्या मुस्लिम खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर, खाना-पानी व अन्य चीज़ों की दरकार
Click for full image

म्यांमार की राज्य राखेन में नरसंहार के बाद लाखों लोगों ने बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में पलायन कर रहे हैं। हालांकि, उनकी स्थिति यहां कुछ अच्छी नहीं है। कोक्स बाजार और तकनाफ सीमा के पास रोहिंग्याई नागरिकों के लिए आश्रय दिया गया है। मगर यहां खाने-पीने की चीज़ें दवाएं और अन्य जरूरी चीज़ों की बेहद कमी है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी की यूएनएचसीआर की रिपोर्ट के अनुसार म्यांमार की राज्य की राखेन के पीड़ित क्षेत्र से पलायन कर के अब तक 4 लाख शरणार्थी बांग्लादेश आए हैं। लेकिन उनके पास आश्रय के लिए एक सीमित स्थान है और जो पहले से ही भर गया है। करीब 3.5 लाख शरणार्थी खुले आसमान के नीचे रहने के लिए मजबूर हैं। वे डायरिया जैसे अन्य मौसमी बीमारियों से पीड़ित हैं। उन्हें पीने का पानी जरूरी सामान और दवाइयों की दरकार है।

बांग्लादेश सरकार ने मानव अधिकार की बुनियाद पर रोहिंगिया शरणार्थी के लिए अपने दरवाजे खोले हैं। और उन्होंने रोहिंग्या नागरिकों का पंजीकरण शुरू कर दिया है। स्थानीय प्रशासन और कानून प्रवर्तन एजेंसियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं कि रोहिंग्या कोक्स बाज़ार जिला से बाहर न जाएँ।

आपको बता दें कि बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र के 72 वें सत्र में शामिल होने गई हैं, जहां वह संयुक्त राष्ट्र में रोहिंग्या के संकट के मुद्दे को उठाने की योजना बना रखा है।

Top Stories