अंतरराष्ट्रीय संगठन हमें ना सिखाएं कि रोहिंग्या मुसलमानों के साथ कैसा बर्ताव करना चाहिए: किरण रिजिजू

अंतरराष्ट्रीय संगठन हमें ना सिखाएं कि रोहिंग्या मुसलमानों के साथ कैसा बर्ताव करना चाहिए: किरण रिजिजू
Click for full image

केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि रोहिंग्या मुस्लिम भारत में अवैध आप्रवासी हैं और उनको उनके मुल्क भेजा जाएगा. रिजूजू ने कहा कि किसी को भी इस मुद्दे पर भारत को प्रवचन नहीं देना चाहिए क्योंकि भारत ने दुनिया में अधिकतम संख्या में शरणार्थियों को अपने यहां शरण दी है.

किरण रिजिजू ने कहा, ‘मैं अंतरराष्ट्रीय संगठनों से कहना चाहता हूं कि चाहे ​रोहिंग्या संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के तहत रजिस्टर्ड हैं या नहीं वे भारत में अवैध आप्रवासी हैं. इसलिए उन्हें उनके देश वापस भेजा जाएगा’

केंद्रीय मंत्री कहा ने, ”कानून के अनुसार उन्हें देश से निकाला जाना है क्योंकि वे अवैध आप्रवासी हैं. हम महान लोकतांत्रिक परंपराओं वाले देश हैं. भारत ने दुनिया में अधिकतम संख्या में शरणार्थियों को जगह दी है, इसलिए किसी को भी शरणार्थियों से कैसे बर्ताव किया जाए इसपर भारत को नसीहत नहीं देनी चाहिए.”

इस मुद्दे पर सरकार के रुख की आलोचना पर कड़ा रुख अपनाते हुए रिजिजू ने कहा, ”हम कानूनी रास्ता अपना रहे हैं, तब क्यों हमपर अमानवीय होने का आरोप लगाया जा रहा है.” उन्होंने कहा कि केंद्र ने सभी राज्य सरकारों को उन्हें देश से निकालने की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया है.

दो रोहिंग्या आप्रवासियों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाकर केंद्र सरकार को यह निर्देश देने का अनुरोध किया है कि वह उन्हें म्यांमार वापस नहीं भेजे. म्यांमार के पश्चिमी राखाइन प्रांत में हिंसा के बाद रोहिंग्या मुसलमान भारत भाग आए है.

Top Stories