Thursday , September 20 2018

रोटोमैक घोटाला: विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल को सीबीआई ने गिरफ्तार किया

नई दिल्ली: सीबीआई ने रोटोमैक समूह के चैयरमेन विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल कोठारी को 37 अरब रुपये की धोखाधड़ी के मामले गिरफ्तार कर लिया है।

खबर के मुताबिक, सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) लंबे समय से विक्रम कोठारी और उनके बेटे से पूछताछ कर रही थी। जबकि रोटोमैक समूह की यूनिटों पर भी छापेमारी कर हजारों दस्तावेज सीज किए जा चुके हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, बैंक ऑफ बड़ौदा की शिकायत पर सीबीआई ने विक्रम कोठारी, उनकी पत्नी आदि के खिलाफ धोखाधड़ी और ईडी ने मनी लॉड्रिंग एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।
एफआईआर में कहा गया है कि रोटोमैक ग्रुप ने धोखाधड़ी कर सात बैंकों से 2919 करोड़ रुपये का लोन लिया, जिसे अदा नहीं किया गया। ब्याज मिलाकर यह रकम 3695 करोड़ रुपये है। रकम बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूनियन बैंक, इलाहाबाद बैंक और ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स की है।

छापेमारी के बाद सीबीआई अफसरों ने विक्रम कोठारी, साधना और राहुल से पूछताछ की। उनके मोबाइल कब्जे में ले लिए गए। उनके बयानों को रिकॉर्ड किया गया और आवास से चार अटैचियों को जब्त किया। इसी तरह फैक्ट्री में कर्मचारियों से पूछताछ के अलावा बड़ी संख्या में दस्तावेजों को कब्जे में लिए हैं।

बैंक आफ बड़ौदा द्वारा दर्ज एफआईआर में बैंक ने कंपनी के निदेशकों पर धोखाधड़ी करके 616.69 करोड़ रुपये का लोन हासिल करने का आरोप लगाया है।

इस मामले में भी सीबीआई ने रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमेटेड के निदेशकों विक्रम कोठारी, साधना, राहुल और बैंक ऑफ बड़ौदा के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ भी धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है।

TOPPOPULARRECENT