Tuesday , September 25 2018

VIDEO- ‘रोज-ए-कयामत’ को जब इमरान खान ने पढ़ा ‘रोज-ए-कियादत’, बाद में बोले ‘सॉरी’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेते हुए पीटीआई प्रमुख इमरान खान उर्दू के कई शब्दों के उच्चारण में अटके. जबकि कई शब्द उन्होंने गलत पढ़े. पाकिस्तान के राष्ट्रपति भवन ऐवान-ए-सद्र में राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के 65 वर्षीय प्रमुख खान को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. पारंपरिक शेरवानी पहने खान शपथ ग्रहण के दौरान कुछ नर्वस से नजर आए और उर्दू शब्दों के उच्चारण में कई बार अटके. जब राष्ट्रपति हुसैन ने जब ‘रोज-ए-कयामत’ (फैसले का दिन) कहा तो खान ने इसे ठीक से सुना नहीं और इसका गलत उच्चारण ‘रोज-ए-कियादत’ (नेतृत्व का दिन) किया. इसने पूरे वाक्य का अर्थ बदल दिया.

राष्ट्रपति ने जब शब्द दुहराया तो, खान को अपनी गलती का ऐहसास हुआ और मुस्कुराते हुए उन्होंने ‘सॉरी’ कहा और शपथ ग्रहण जारी रखा. रिपोर्ट के अनुसार, कुछ पाकिस्तानी पत्रकारों ने यह भी अटकलें लगाई कि क्या पिछले वर्षों के मुकाबले प्रधानमंत्री का शपथपत्र बदल गया है.

1992 में क्रिकेट विश्व कप में पाकिस्तान को जीत दिलाने वाले कप्तान खान ने अपने शपथ ग्रहण समारोह में पुराने साथी क्रिकेटरों को भी बुलाया. सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा, पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू, क्रिकेटर से कमांटेटर बने रमीज राजा, पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम सहित अन्य कई विशिष्ट अतिथि समारोह में उपस्थित थे.ऑक्सफोर्ड में पढ़ाई करने वाले पश्तून खान ने कल अपने एकमात्र प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के प्रमुख शाहबाज शरीफ को नेशनल एसेम्बली में हुए एकतरफा चुनाव में हरा कर प्रधानमंत्री पद के लिए जीत हासिल की.

सरकार बनाने के लिए 342 सदस्यीय नेशनल एसेंबली में पार्टी को 172 मतों की जरूरत होती है. कल हुए चुनाव में खान को 176 वोट मिले, जबकि शहबाज शरीफ को 96 वोट मिले. बता दें कि आम चुनावों में 116 सीटों के साथ पीटीआई सबसे बड़े दल के रूप में उभरी. बाद में 9 निर्दलीय उम्मीदवारों के खान की पार्टी में शामिल होने से उनकी संख्या बल बढ़कर 125 हो गई. इसके अलावा संसद में महिलाओं के लिए आरक्षित 60 सीटों में 28 सीटें, और धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित 10 में से पांच सीटें मिलने के बाद पीटीआई के सदस्यों की संख्या बढ़कर 158 हो गई.

TOPPOPULARRECENT