Tuesday , December 12 2017

RSS के गढ़ में कन्हैया की ललकार: नागपुर अंबेडकर की भूमि, संघ की नहीं

नागपुर: आरएसएस पर निशाना साधते हुए जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने आज कहा कि नागपुर बी आर अंबेडकर की भूमि है और आरएसएस की नहीं और संघ संसद नहीं है।

कन्हैया ने अंबेडकर को यहां उनकी 125वीं जयंती पर श्रद्धांजलि देने के बाद भाषण दिया। भाषण के दौरान एबीवीपी के एक कार्यकर्ता ने उन पर चप्पल फेंकी, लेकिन वह उन्हें नहीं लगा। अपने भाषण में उन्होंने राजग सरकार पर देश में लोकतांत्रिक ढांचे पर हमला करने का आरोप लगाया और कहा कि अंबेडकर द्वारा लिखित संविधान पर सीधा हमला हो रहा है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कुछ चुनावी वादे किए थे लेकिन वह अब तेजी से उन्हें भूल रही है और उससे पीछे हट रही है। उन्होंने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि यह डॉ बाबासाहेब अंबेडकर की धरती है, जिसे दीक्षाभूमि (वह स्थान जहां अंबेडकर ने अपने अनुयायियों के साथ बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था) कहा जाता है, न कि संघ भूमि। गौरतलब है कि नागपुर में आरएसएस का मुख्यालय है। उन्होंने कहा कि संघ संसद नहीं है और मनुवाद संविधान नहीं है।

कन्हैया ने कहा कि मोदी सरकार जेएनयू जैसे शैक्षणिक संस्थानों की विश्वसनीयता को नुकसान पहुंचा रही है और अपनी विचारधारा थोप रही है और छात्रों को उस गुनाह के लिए प्रताड़ित कर रही है, जो उन्होंने किया ही नहीं है।

लोकभारत डॉट कॉम के सौजन्य से

TOPPOPULARRECENT