BHU में मुस्लिम संस्कृत प्रोफ़ेसर की नियुक्ति का RSS ने किया समर्थन, विरोध को गलत बताया!

BHU में मुस्लिम संस्कृत प्रोफ़ेसर की नियुक्ति का RSS ने किया समर्थन, विरोध को गलत बताया!

संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय बीएचयू में विवि प्रशासन की ओर से धरना खत्म होने के दावे को झुठलाते हुए छात्र प्रदर्शन के 16 वें दिन धरना स्थल पर सुबह जहां बैठकर भजन कीर्तन करते नजर आए।


छात्रों ने कक्षा बहिष्कार करने की चेतावनी दी
हालांकि देर शाम तक बीएचयू के छात्रों का धरना दस दिन की मोहलत के साथ ही समाप्त हो गया, छात्रों ने हालांकि बताया कि अब अन्य माध्यमों से करेंगे अपना आंदोलन चलाएंगे और छात्र कक्षाओं का बहिष्कार करेंगे छात्र।

परिक्षा का भी बहिष्कार कर सकते हैं
वहीं छात्र आगामी परीक्षा का भी बहिष्कार कर सकते हैं, कहा कि सांकेतिक धरना का क्रम जारी रहेगा। दूसरी ओर शुक्रवार की दोपहर आरएसएस की ओर से भी इस मामले में पत्र जारी कर बीएचयू में फ‍िरोज खान की नियुक्ति का समर्थन किया गया।

संघ का आया बयान
काशी में आरएसएस के विभाग संघ चालक डा. जय प्रकाश लाल की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि – राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ की एक बैठक हुई, जिसमें डा. फ‍िरोज खान के संस्‍कृत विद्या एवं धर्म विज्ञान संकाय के साहित्‍य विभाग में नियुक्ति के संदर्भ में चल रहे विवाद से संबंधित सभी पहलुओं पर विस्‍तृत विचार विमर्श किया गया।

फिरोज़ खान का विरोध गलत
संघ का मत है कि डा. फ‍िरोज खान का विरोध करना गलत है। संघ उससे सहमत नहीं है और संघ का स्‍पष्‍ट और दृढ मत है कि संस्‍कृत साहित्‍य को समर्पित व श्रद्धा भाव से उसे पढ़ाने वाले, वैधानिक चयन प्रक्रिया से नियुक्‍त किसी भी व्‍यक्ति का सांप्रदायिक आधार पर विरोध विधि विरुद्ध व सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वाला है।

संघ इस वृत्ति, प्रवृत्ति का विरोध करता है। यह संस्‍कृत भाषा व साहित्‍य का प्रसार व प्रभाव है जिसका लाभ संपूर्ण विश्‍व के सभी को मिलना चाहिए।

Top Stories