Monday , June 25 2018

सहारनपुर: ‘वो जय श्री राम और आंबेडकर मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे, हमने रोका तो मारपीट शुरू कर दी’

सहारनपुर- दो समुदायों के बीच हुई हिंसक झड़प में यूपी पुलिस ने 160 नामज़द लोगों के खिलाफ़ 9 एफआईआर दर्ज की हैं। इस मामले में पुलिस ने अब तक 17 आरोपियों को गिरफ्तार किया है । पुलिस के मुताबिक तीन एफआईआर ठाकुरों की शिकायत पर दर्ज की हैं, जबकि चार एफआईआर दलितों ने दर्ज कराई हैं, इसके अलावा एक-एक एफआईआर बडगांव स्टेशन ऑफिसर एमपी सिंह और घायल हुए एक हिन्दी अखबार के पत्रकार की शिकायत पर दर्ज की गई है। FIR में हत्या, हत्या की कोशिश, आगजनी, दंगा, महिलाओं के यौन उत्पीड़न और SC/ST एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने ठाकुर समुदाय के सुमित कुमार की हत्या के मामले में एफआईआर दर्ज की है। एफआईआर में कहा गया है कि जब दलितों ने सुमित को देखा तो चिल्लाए “ये राजपूत है, मारो इसे। और ऐसा कहकर उन्होंने सुमित पर पत्थरों से हमला कर दिया।” ठाकुरों की ओर से की गई दो अन्य एफआईआर में से एक गन्ना विक्रेता की है और दूसरी सब्बीरपुर गांव के निवासी की है। इन दोनों ने ही दुर्व्यवहार और मारपीट के आरोप लगाए हैं। वहीं, दलितों ने अपनी शिकायत में जाति को गाली देने, महिलाओं का उत्पीड़न, घरों को जलाने व लूटने के आरोप लगाए हैं।

दलितों की ओर से कराई गई रिपोर्ट में कहा गया है कि, “राजपूत समुदाय के लोग जुलूस निकाल रहे थे। उनके हाथों में तलवारें थी और वो ‘जय श्री राम’ व ‘अंबेडकर मुर्दाबाद’ के नारे लगा रहे थे । जब हमनें उन्हें ऐसा करने से मना किया तो उन्होंने हमें पीटना शुरू कर दिया। उन्होंने बाबा रविदास की मूर्ती तोड़ दी, हमारे घरों को लूटा, महिलाओं को प्रताड़ित किया, शब्बीरपुर और महेशपुर गांव में जानवरों को आग लगाई व दुकानों को लूटा।”

पत्रकार अशोक पुंडीर ने आरोप लगाया कि जब वह इस मामले को कवर कर रहे थे तो उन पर भा हमला किया गया। पत्रकार ने कहा, “दलितों ने मुझे मारने की धमकी दी और मुझे पीटा । मेरे सिर और सीने में चोट आई है। हमलावरों ने मुझसे 20 हजार नकदी, सोने की अंगूठी और मेरा कैमरा भी छीन लिया।”

TOPPOPULARRECENT