Thursday , November 23 2017
Home / Khaas Khabar / गिरफ़्तार हुए आतंकी के भाई का ख़ुलासा, कई युवाओं को लश्कर में भर्ती करना चाहता था संदीप

गिरफ़्तार हुए आतंकी के भाई का ख़ुलासा, कई युवाओं को लश्कर में भर्ती करना चाहता था संदीप

हाल ही में पुलिस के हत्थे चढ़ा लश्कर-ए-तैयबा के कथित आतंकी संदीप शर्मा और उसके परिवार से पूछताछ जारी है।

पूछताछ में संदीप के फुफेरे भाई अश्वनी ने सनसनीखेज खुलासे किए हैं। दरअसल संदीप का प्लान वेस्ट यूपी के लड़कों को लश्कर में शामिल करना था। संदीप से अश्वनी को फोन कर कुछ युवकों को कश्मीर भेजने के लिए भी कहा था।

सुरक्षा एजेंसियां यह मान रही हैं कि संदीप जिन लड़कों को कश्मीर बुला रहा था, उन्हें वह लश्कर में भर्ती कराता।

पूछताछ में अश्वनी ने बताया कि फ़ोन पर संदीप ने यह नहीं बताया था कि इन युवकों को कश्मीर में क्या काम करना था।

संदीप के भाई प्रवीण शर्मा ने पूछताछ में बताया कि संदीप को उसका फुफेरा भाई मोरना निवासी अश्वनी उर्फ सोनू कश्मीर लेकर गया था। अश्वनी पहले मुंबई में वेल्डर था।

पढ़ाई में मन नहीं लगने पर संदीप भी अश्वनी के पास मुंबई चला गया। करीब तीन माह उसने मुंबई के चिराग नगर के निर्माणाधीन ज्यूपिटर हॉस्पिटल में वेल्डिंग का काम सीखा।

बाद में दोनों की मुलाकात दिल्ली के खजूरी खास इलाके के ठेकेदार वकील अहमद से हुई। उसका कश्मीर के बारामूला जिले में पावर ग्रिड का काम चल रहा था। संदीप, अश्वनी, आसिफ, रोहताश के साथ ही मेरठ के सरधना के महादो गांव का सोनू भी इनके साथ काम करने बारामूला गया था।

करीब 20 दिन बाद अश्वनी की मां को हादसे में चोट लग गई। वह बीच में ही वापस मोरना लौट आया। अश्वनी ने यह स्वीकार किया है कि अंतिम बातचीत में संदीप ने उससे मुजफ्फरनगर या उसके आसपास के जिलों से कुछ युवकों का इंतजाम करने के लिए कहा था।

हालांकि संदीप ने युवकों को वेल्डिंग का ही काम दिलाने का हवाला दिया था। अश्वनी ने संदीप से कहा कि वह पेमेंट एडवांस भिजवाए, तो कुछ युवक कश्मीर काम के लिए जा सकते हैं, लेकिन संदीप ने एडवांस रकम नहीं भिजवाई।

 

 

TOPPOPULARRECENT