Thursday , December 14 2017

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस का वादा, देश मॉडरेट ओपन इस्लाम की तरफ़ फिर से लौटेगा  

साऊदी अरब के क्राउन प्रिंस ने एक प्रमुख निवेश सम्मेलन में बोलते हुए वादा किया है कि उसका राज्य पहले की तरह एक मॉडरेट इस्लाम बन जाएगा जो विश्व के सभी धर्मों के लिए खुला होगा।

मोहम्मद बिन सलमान बिन अब्दुलअजीज़ अल सऊद ने मंगलवार को रियाद में ऐतिहासिक भविष्य के निवेश की पहल के आरम्भ में यह घोषणा की।

प्रिंस ने आगे कहा कि देश में से उग्रवाद से निपटने के लिए हम और भी बेहतर फ़ैसले लेंगे।उन्होंने एक साक्षात्कारकर्ता से बातचीत में कहा कि “हम अपने जीवन के 30 साल कट्टरपंथी विचारों से निपटने के लिए बर्बाद नहीं करेंगे, हम आज ही उन्हें नष्ट कर देंगे।”

राजकुमार बिन सलमान के दावों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बिना संदेह के पूरा किया जाएगा, क्योंकि सऊदी के कट्टरपंथी अभी भी देश में बहुत शक्ति और प्रभाव का इस्तेमाल कर रहे हैं। अधिकार समूह राज्य में राज्य के मानवाधिकारों के उल्लंघन की निंदा करते रहे हैं, जिनमें से कई पिछली कई शताब्दियों से कुरानिक कानून के आधार पर आधारित हैं।

ख़बर रहे प्रिंस बिन सलमान को अचानक इस वर्ष के शुरू में अपने पिता राजा सलमान बिन अब्दुलअजीज अल सऊद ने सिंहासन का उत्तराधिकारी नियुक्त किया था, प्रिंस को आधुनिक राज्य के चेहरे के रूप में देखा जाता है।

‘विजन 2030’ के पीछे 32 वर्षीय प्रिंस का बड़ा हाथ है, जिसको सऊदी अरब की लम्बे समय की आर्थिक और सामाजिक नीति को सिर्फ़ तेल पर से देश की निर्भरता को हटाने के लिए तैयार किया गया है। पिछले महीने, यह घोषणा की गई थी कि सऊदी अरब में महिलाओं को ड्राइव करने का अधिकार दिया जाएगा, जो देश में महिलाओं के खिलाफ  भेदभाव में एक प्रतीकात्मक कदम को संकेत देता है। वहीं राजकुमार बिन सलमान ने अपनी पहचान  एक साहसी और सामाजिक रूप से उदार सुधारक के रूप में बनाई है, आलोचकों ने अपने हकीक विदेश नीति को ध्यान में रखा है।

रक्षा मंत्री के रूप में प्रिंस नें 2015 से पद संभाला है। उन्होंने येमेनी गृहयुद्ध में सऊदी अरब के खूनी हस्तक्षेप में अहम भूमिका निभाई और साथ ही ईरान के आक्रामक रुख के बारे में कड़ी निंदा भी की। प्रिंस को गल्फ़ राज्यों के साथ कतर के संबंध बिगड़ने के पीछे प्राथमिक निर्णय लेने वालों में से एक माना जाता है। इसके अलावा भविष्य में निवेश पहल पर, प्रिंस बिन सलमान ने जॉर्डन और मिस्र के साथ सीमा पर निर्मित एक नया 500 अरब डॉलर का स्वतंत्र आर्थिक क्षेत्र निओम के निर्माण की घोषणा की।

राजकुमार का कहना है कि 2025 परियोजना वैकल्पिक ऊर्जा का उपयोग कर के चलाई जाएगी  और दुनिया भर में टेक्नोलोजी इनोवेशन हब के रूप में सेवा प्रदान करेगी।

गुरुवार तक चलने वाले सम्मेलन का उद्देश्य यह दिखाना है कि रियाद कैसे खुद को आधुनिक दुनिया के लिए खोल रहा है और तेल की कीमतों में वैश्विक गिरावट के बाद अपने राजस्व प्रवाह को विविधता प्रदान कर रहा है।

 

 

TOPPOPULARRECENT