अमेरिका, इजरायल को सऊदी अरब ने दिया मुंहतोड़ जवाब, जेरुशलम को अरब टूरिज्म की राजधानी बनाया

अमेरिका, इजरायल को सऊदी अरब ने दिया मुंहतोड़ जवाब, जेरुशलम को अरब टूरिज्म की राजधानी बनाया
Click for full image

अरब टूरिज्म आर्गेनाइजेशन ने जेरुसलम को 2018 के लिए ‘अरब पर्यटन की राजधानी’ घोषित किया है। यह घोषणा प्रेसिडेंट ऑफ़ अरब टूरिज्म आर्गेनाइजेशन डॉ बन्दर बिन फहद अल फुहैद द्वारा बीसवें अरब मिनिस्टीरियल काउंसिल के दौरान काहिरा में की गयी।

अल फहद ने इस घोषणा के समर्थन के लिए सऊदी कमिशन फॉर टुरिज़्म एंड नेशनल हेरिटेज एंड आनरेरी प्रेसिडेंट प्रिंस सुल्तान बिन सलमान बिन अब्दुल अजीज का आभार व्यक्त किया।

डीटी की खबरों के अनुसार उन्होंने अरब के पर्यटन मंत्रियों और अरब लीग का पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए समर्थन की प्रशंसा की। डॉ बंदर ने पुष्टि की कि यरूशलेम को ‘अरब पर्यटन की राजधानी’ घोषित करने से संगठन और अरब मंत्रिस्तरीय परिषद को ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल के रूप में अपने महत्व को उजागर करने के प्रयासों के प्रतिबिंबित किया गया है।

उन्होंने कहा की “अरब राष्ट्रों के नागरिकों के साथ अपने संबंधों को और मजबूत करना ही इसका उद्देश्य है। यह अरब के नेताओं और अरब लीग के महासचिव के हित को दर्शाता है जो कि यरूशलेम की अरब-इस्लामी पहचान को संरक्षित करते हैं। अरब पर्यटन की राजधानी हर साल किसी ना किसी शहर को चुना जाता है।

इस घोषणा के बाद फिलिस्तीनी प्राधिकरण ने इस निर्णय की प्रशंसा की है। संगठन के प्रमुख फहद अल-फहीद ने कहा कि “अरब की दुनिया की पसंद जेरुसलम अपने ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व को उजागर करने और शहर के साथ अरब आबादी को जोड़ने में संगठन की रुचि को दर्शाती है।

पीए मिनिस्ट्री ऑफ टूरिज्म के एक प्रवक्ता ने कहा की “यह निर्णय अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा अमेरिकी दूतावास के जेरुसलम के कदम के खिलाफ खड़े होने के अरब प्रयासों के संदर्भ में है”।

यह इस तथ्य को दोहराता है कि यरूशलेम एक अरब शहर है, और वह फिलिस्तीनी राज्य की राजधानी रहेगी। यह इस तथ्य को दोहराता है कि यरूशलेम एक अरब शहर है, और वह फिलिस्तीनी राज्य की राजधानी रहेगी”।

Top Stories