कानपुर का स्कूली लड़का ‘एयर प्यूरीफायर रोबोट’ किया विकसित!

कानपुर का स्कूली लड़का ‘एयर प्यूरीफायर रोबोट’ किया विकसित!

शहर में पिछले कुछ दिनों में अगर कोरोना का कहर कम हुआ है तो सर्दी के साथ आसमान में छायी धुंध ने सभी का चैन छीन लिया है। दूषित हवा में लोगों का सांस लेना मुश्किल हो गया है।

जागरण डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, वायु प्रदूषण मानक से कई गुना अधिक दर्ज हो रहा है। वैसे तो बाजार में कई महंग एयर प्यूरीफायर मौजूद हैं लेकिन वे इतने महंगे हैं कि आम आदमी की पहुंच से दूर हैं।

इसके देखते हुए ओंकारेश्वर सरस्वती विद्या निकेतन में 10वीं के छात्र मयंक सक्सेना ने ऐसा स्मार्ट एयर प्यूरीफायर तैयार किया है, जो प्रदूषण को दूर कर हवा को शुद्ध कर देगा।

इसकी कीमत भी इतनी कम होगी कि आम आदमी भी इसे आसानी खरीद कर सकेंगे। इसका उपयोग घर, कार्यालय या अन्य किसी भी स्थान पर भी किया जा सकता है।

तीन दिन पहले एक संस्था की ओर से आयोजित प्रदर्शनी में मयंक के इस प्रोजेक्ट को नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी और महापौर प्रमिला पांडेय ने भी देखा था।

उन्होंने मयंक के कार्य की सराहना कर हरसंभव मदद का भरोसा दिया है। साथ ही मयंक को सम्मानित किया।

मयंक ने बताया कि एयर प्यूरीफायर को तैयार करने के लिए चार एग्जास्ट के कनेक्शन को बैट्री (नौ व 12 वोल्ट) से जोड़ा गया है। फिर बैट्री को सोलर पैनल से जोड़ा। इसके बाद एमक्यू-2 सेंसर व एलसीडी का कनेक्शन आपस में कर दिया गया।

फिर एक एचसी जीरो फाइव (ब्लूटूथ मॉड्यूल) का कनेक्शन माइक्रो कंट्रोलर से किया। पावर पहुंचते ही एयर प्यूरीफायर चलने लगता है और वातावरण में मौजूद कॉर्बन डाइ आक्साइड व अन्य गैसों के साथ ही धूल के महीन कणों को अवशोषित कर लेता है।

मयंक ने बताया कि बाजार में जो नामचीन कंपनी के एयर प्यूरीफायर मौजूद हैं, उनकी कीमत 10 से 12 हजार रुपये तक है। इस एयर प्यूरीफायर को महज 2000 रुपये में तैयार किया गया है। ज्यादा संख्या में उत्पादन पर यह कीमतें और कम होंगी।

Top Stories