Tuesday , July 17 2018

इन्सानी मस्तिष्क के लिए हानिकारक हैं यह सात आदतें

हमारा मस्तिष्क हमारे शरीर का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह इतना अधिक महत्वपूर्ण है कि अगर इसमें कोई छोटी सी समस्या है तो हमारा पूरा शरीर काम करने में सक्षम नहीं होगा। मानव मस्तिष्क इतना शक्तिशाली है कि शरीर की ऊर्जा का 60 फीसदी उपयोग इसे कार्यात्मक बनाने के लिए किया जाता है और फिर वह इस तरह से कार्य कर सकता है।

लेकिन मनुष्य अपने मस्तिष्क के स्वास्थ्य के बारे में बहुत कम ही सोचते हैं और कुछ लोगों की ऐसी कई आदतें हैं जो उनके मस्तिष्क को बहुत कमजोर बनाती हैं और आज हम आपको इनमें से कुछ आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं। पहला कारण यह है कि प्रतिदिन नाश्ता न करना और इसके कारण से शरीर में कम ऊर्जा उत्पन्न होती है और मस्तिष्क पूरी तरह से ऊर्जा का उपयोग करने में असमर्थ हो जाता है।

दूसरा कारण देर से सोना हैं और लंबे समय तक जागने के कारण हमारे मस्तिष्क में न्यूरॉन्स बनाने की प्रक्रिया नहीं होती है। तीसरा कारण मीठा खाते रहने से अधिक चीनी या मीठे पदार्थो का सेवन से प्रोटीन और पोषक तत्वों के अवशोषण में बाधा होने से कुपोषण और मस्तिष्क के विकास में कमी का कारण से भी मस्तिष्क को नुकसान होता है। एक कारण यह है कि कुछ लोग नशीले पदार्थों का इस्तेमाल करते हैं और इस वजह से उनका मस्तिष्क बहुत कमजोर हो जाता है।

टीवी देखने और कम्प्यूटर पर काम करने के दौरान खाना खाने से भी मस्तिष्क को हानि होती है। सिर को ढक कर सोने से या पूरी तरह मुह सहित ओढकर सोने से कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा चादर के अन्दर अधिक हो जाती हे, इससे ऑक्सीजनकी कमी होने से मस्तिष्क को हानि होने की सम्भावना अधिक हो जाती है। पेशाब को रोकने से भी इंसान के दिमाग को नुकसान की सम्भावना रहती है।

TOPPOPULARRECENT