सात माह की गर्भवती छात्रा का दर्द : वो हंस रहे थे और मैं डांस कर रही थी

सात माह की गर्भवती छात्रा का दर्द : वो हंस रहे थे और मैं डांस कर रही थी
Click for full image

छत्तीसगढ़ में एक निजी कॉलेज में 7 माह की गर्भवती छात्रा से जबरन नृत्य करवाया गया। मामला छत्तीसगढ़ के संत हरकेवल बीएड कॉलेज का है जहां की छात्रा प्रतिभा मिंज ने 3 फरवरी को बच्चे को जन्म दिया था। प्रतिभा उस वक्त 3 महीने की गर्भवती थी जब उन्होंने अगस्त 2017 में प्रवेश लिया था। दाखिले के दौरान प्रतिभा से एक हलफनामा साइन करवाया गया कि वह कोर्स के दौरान डिलिवरी नहीं कराएंगी।

24 साल की प्रतिभा ने कॉलेज पर आरोप लगाया कि नियमों का उल्लंघन करने के चलते कॉलेज अथॉरिटी ने उन्हें एग्जाम में न बैठने की धमकी दी है जो कि अप्रैल में होने हैं। उन्होंने यह भी बताया कि अध्यापकों ने उसे कई बार नीचा दिखाया और दिसंबर में जब वह सात महीने की प्रेगनेंट थी तो एक प्रैक्टिकल एग्जाम के लिए उसके बार-बार मना करने पर भी पूरी क्लास के सामने डांस करवाया।

प्रतिभा ने बताया, ‘मैं लगातार अध्यापकों से गुजारिश कर रही थी कि मुझसे डांस न करवाया जाए, मैं सात महीने की गर्भवती थी लेकिन उन्होंने मेरे नंबर कम करने की धमकी देते हुए जबरन डांस करवाया। मैंने डांस किया और वह हंस रहे थे जबकि मैं और मेरे क्लासमेट्स शर्मिंदगी महसूस कर रहे थे।’

प्रतिभा ने कहा कि वह डिलिवरी से पहले लगातार अपनी क्लास जाती रहीं और डिलिवरी के बाद ही उन्होंने छुट्टी ली। नियमों के मुताबिक एग्जाम में बैठने के लिए छात्र की 80 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है और प्रतिभा पहले ही 94 फीसदी उपस्थिति पूरी कर चुकी हैं।

जब टाइम्स ऑफ इंडिया ने सरगुजा कलेक्टर किरण कौशल से संपर्क किया तो उन्होंने तुंरत मामले में संज्ञान लेते हुए उच्च शिक्षा के नोडल ऑफिसर एसके त्रिपाठी से कॉलेज को कारण-बताओ नोटिस देने को कहा। एसके त्रिपाठी ने कहा, ‘मैंने प्रिंसिपल को कॉल किया और कहा कि वह तुरंत छात्राओं की प्रेग्नेंसी के जुड़े हलफनामे के नियम को हटाएं। यद्यपि प्रिंसिपल ने महिला को जबरन डांस कराए जाने के मामले से खुद को अनभिज्ञ बताया।’

Top Stories