Saturday , April 21 2018

शेखपुरा में सांप्रदायिक दरार को बढ़ाने के लिए बजरंग दल की नई इकाई सक्रिय

सभी 19 से 24 साल के बीच युवा हैं। शेखपुरा जिले में मोटरसाइकिल पर यात्रा कर हिंदू एकीकरण का संदेश फैलाते हैं। इन्होने जिले की नई बजरंग दल इकाई को पिछले साल ही स्थापित किया और 28 मार्च को चार हजार से अधिक लोगों के साथ यहां पहले रामनवमी जुलूस का आयोजन किया था। इस युवा समूह में अच्छे परिवारों से की सदस्य हैं जो दंगों समेत कई मामलों में आरोपी हैं।

उनमें से एक, 22 वर्षीय विवेक कुमार सिंह जिसका नाम एफआईआर में है, जिन्होंने जुलूस की अनुमति के लिए प्रशासन से संपर्क किया था। उसका कहना था कि मैं हमेशा हिंदू धर्म की रक्षा करना चाहता था। उस समय शेखपुरा में कोई बजरंग दल नहीं था। लेकिन मेरे पास गिरिडीह का एक दोस्त है जो दल का हिस्सा है। उसने मुझे गौहत्या का वीडियो भेजा। मैंने उनसे कहा कि मैं चाहता हूं कि शेखपुरा में एक ऐसा संगठन हो। फिर मैंने उनसे मुलाकात की उन्होंने हमें निर्देश दिए और हम दल में शामिल हो गए।

2017 में केवल 50-60 सदस्य थे अब जिले में कम से कम 1800 पंजीकृत सदस्य बन गए हैं। शेखपुरा हिंसा पर प्राथमिकी में अभियुक्त के रूप में नामित 43 में से एक विजय है। वह एक कोचिंग सेंटर चलाता है। 23 साल की उम्र में वह भाजपा के लिए भी नगर अध्यापक है। मैंने बहुत काम किया है मेरे पास ताक़त है। अब अगर मुझे एक कॉल मिलती है तो मैं 500 लोगों को जुटा सकता हूं।

इसके अलावा एफआईआर में नामित नीतीश राणा (19 वर्ष) दूसरे वर्ष के बीए छात्र हैं और उनमें से एक विजय के कोचिंग सेंटर में है और निश्चित रूप से दल के सदस्य हैं। हम लोगों की भर्ती के लिए फॉर्म लेते हैं। अपने सभी क्षेत्रों में हमारे सभी सदस्य गांवों में जाते हैं और लोगों से हिंदू धर्म के लिए खतरे के बारे में बात करते हैं। विवेक सिंह कहते हैं कि हम उन वाहनों पर भी नजर रखते हैं जो मवेशियों को ले जाती हैं।

रामनवमी जुलूस के लिए विजय कहते हैं कि सदस्यों ने दो महीने में 2 लाख रुपये का दान किया। पुलिस और स्थानीय निवासियों के अनुसार दल के सदस्यों ने शेखपुरा में 28 मार्च तक रातोंरात आगे बढ़ते हुए भगवा ध्वज और पोस्टर लगाए। रामनवमी का जुलुस 28 मार्च को 11 बजे हनुमान मंदिर से शुरू हुआ। 24 वर्षीय राजा कुमार के अनुसार जब वे एक गली में पहुंच गए तो उन्हें पुलिस ने रास्ता रोक दिया। हममें से कुछ जय श्री राम का जप करते हुए धरने पर बैठ गए।

TOPPOPULARRECENT