Sunday , December 17 2017

यूपी में भाजपा की नई चाल, शिया वक्फ बोर्ड ने बाबरी मस्ज़िद पर किया दावा

बाबरी मस्जिद विवाद ने गुरुवार को एक नया मोर्चा शुरू किया जब उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड ने दावा किया कि बाबरी मस्जिद के नाम से विवादास्पद मस्जिद मीर बाकी राज्य की शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड की संपत्ति है।

इतना ही नहीं शिया वक्फ बोर्ड ने दावा किया है कि जब भी अदालतों में विवाद की सुनवाई हुई थी, तब तक इसके विभिन्न न्यायालयों में कभी भी उसका संस्करण नहीं लगाया गया है। इसके अलावा अब तक, सुन्नी केंद्रीय वक्फ बोर्ड मस्जिद के हर मामले में मुख्य पक्षों में से एक रहा है।

ख़बरों की माने तो फैजाबाद जिले के विभिन्न अदालतों में दावा करने के लिए शिया वक्फ बोर्ड ने बोर्ड के अध्यक्ष साईद वसीम रिजावी को अधिकृत किया है।

अब तक, बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी मस्जिद मामले में प्रमुख पक्ष रही है। विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण करने वाले लोगों ने बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के महत्व पर सवाल उठाया है।

कुछ समय पहले, बीजेपी के सैयद इकबाल हैदर ने 21 अप्रैल को लखनऊ प्रेस क्लब में एक बैठक आयोजित की जिसमें उन्होंने सदस्यों को राम मंदिर के निर्माण के लिए तैयार करने का आग्रह किया। उन्होंने लोगों के बीच अंतर पैदा करने के लिए बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी का भी आरोप लगाया और दावा किया कि मस्जिद शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के थे।

कुछ दिन पहले हैदर ने लखनऊ और फैजाबाद जिले के आसपास पोस्टर लगाए जिनमें उन्होंने खुलेआम राम मंदिर का निर्माण करने का दावा किया। प्रधानमंत्री मोदी और राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पोस्टर में प्रमुखता से प्रदर्शित हुए थे। इतना ही नहीं विभिन्न धार्मिक मुस्लिम नेताओं को उनकी सहमति के बिना पोस्टर में शामिल रखा गया था।

TOPPOPULARRECENT