नागरिकता संशोधन बिल में शिवसेना चाहती है बदलाव!

नागरिकता संशोधन बिल में शिवसेना चाहती है बदलाव!

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा है कि उनकी पार्टी तबतक नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन नहीं करेगा जबतक इसको लेकर सारी बातें स्पष्ट नहीं हो जाती।

नागरिकों के डर को दूर किया जाना चाहिए
इंडिया टीवी न्यूज़ डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर नागरिकों में इस बिल की वजह से भय है तो नागरिकों की सारी आशंकाएं दूर की जानी चाहिए, उन्होंने कहा कि बिल का विरोध करने वाले लोग भी हमारे नागरिक हैं और उनके सवालों का जवाब दिया जाना चाहिए।

शिवसेना ने दिया बदलाव का सुझाव
उद्धव ठाकरे ने कहा कि उनकी पार्टी की तरफ से राज्यसभा में बिल में बदलाव का सुझाव दिया गया है।सोमवार रात को लोकसभा से पास होने के बाद राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक बुधवार को पेश किया जाएगा।

घुसपैठियों को निकाला जाना चाहिए
उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिवसेना की भूमिका है, कि जो भी बाहरी लोग देश मे घुसपैठ करके आये हैं उन्हें निकाल दिया जाना चाहिए, और इसीलिये इस बिल पर संसद में शिवसेना की भूमिका रही।

थोड़ी और स्पष्टता होना चाहिए
उद्धव ठाकरे ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक मे राज्य सभा मे आने से पहले थोड़ी और स्पष्टता होना चाहिए। हालांकि हम कहते है कि एनआरसी हो या दूसरे बिल लोकसभा मे बिलों पर स्पष्टता नहीं है। अल्पसंख्यकों को देश मेँ सुरक्षा का सरकार से ठोस आश्वासन मिला नहीं।

बदलाव नहीं किया तो नहीं देंगे समर्थन
उद्धव ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल मे शिवसेना के सुझावों को बिल मे जोड़ें अन्यथा राज्य सभा मे इस बिल को हम समर्थन नहीं करेंगे।

सरकार ध्यान भटका रही है
केंद्र सरकार दूसरे अहम मुद्दों से ध्यान भटकाने मे लगी है। इस बिल को लेकर सरकार राजनीति साध रही है देश के लोगों का ध्यान भटकाने मे लगी है सरकार।

समर्थन के बदले शर्त
गौरतलब है कि लोकसभा में शिवसेना ने नागरिकता संशोधन विधेयक के पक्ष में वोट किया था लेकिन अब बिल राज्यसभा में पेश होने जा रहा है और शिवसेना ने अब बिल को समर्थन देने के बदले में नई शर्त रख दी है कि जबतक सरकार बिल को लेकर सारी बातें स्पष्ट नहीं करती तबतक शिवसेना बिल का समर्थन नहीं करेगी

Top Stories