सिरिया मिशन पूरा हुआ, हमले बेहद कामयाब : अमेरिका व ब्रिटेन

सिरिया मिशन पूरा हुआ, हमले बेहद कामयाब : अमेरिका व ब्रिटेन
विशालकाय परमाणु शक्ति पर आधारित यूएसएस हैरी एस ट्रूमैन, 90 लड़ाकू विमानों को ले जा रहा है और अपने साथ पांच हमले करने वाले विनाशकारी और क्रूजर समूह को भी साथ में लिए हुए है जो यूरोप से मध्य पूर्व की ओर बढ़ रहे हैं या अपने स्थान पर पहुँच चुके हैं।

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ट्विटर पर इन हमलों को सफल बताते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने सहयोग के लिए फ्रांस और ब्रिटेन को धन्यवाद दिया है और अमरीकी सेना पर गर्व जताया है. उन्होंने लिखा, “हमारी महान सेना पर मुझे गर्व है जो कुछ बिलियन डॉलर ख़र्च करने के बाद अमरीकी इतिहास की सबसे ताक़तवर सेना बन जाएगी. इसके आस-पास भी कोई नहीं होगा.”

सीरिया पर हमले की कार्रवाई का मक़सद असद हुकूमत को इस हद तक कमज़ोर करना है कि रासायनिक हथियारों से फिर हमले न किए जा सकें लेकिन इनका पैमाना इतना बड़ा भी नहीं है कि सीरिया के संघर्ष की सूरत बदल जाए या रूस इसका बदला ले.

हवाई हमले बेहद सफल: ब्रिटिश रक्षा मंत्री
ब्रिटेन के रक्षा मंत्री गैविन विलियमसन ने सीरिया पर ब्रितानी हवाई हमलों को बेहद कामयाब बताया है. उन्होंने बताया कि ब्रिटेन की तरफ़ से चार लड़ाकू विमानों के बेड़े ने इस कार्रवाई में हिस्सा लिया था जो सुरक्षित वापस लौट आया है. प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने कहा है कि वे संसद में सोमवार को इस सैन्य कार्रवाई पर बयान देंगी. उन्होंने अपने निर्णय का बचाव किया है.

पिछले दिनों जिस तरह से बयानबाज़ी में उलझे थे, उसकी तुलना में पश्चिम और रूस ने ज़्यादा समझदारी दिखलाई है. सीरिया की सरकार को निशाना नहीं बनाया गया है. रूस और ईरान को टारगेट नहीं किया गया है. रूसियों ने भी कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की. हालांकि उन्होंने अपना एयर डिफेंस सिस्टम तैनात किया था. दोनों ही पक्ष बात बढ़ाने से बचते हुए दिखे.

अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के ख़िलाफ़ हवाई हमले: चीन

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा है कि चीन अंतरराष्ट्रीय संबंधों में बल के इस्तेमाल का और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सिद्धांतों और अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के बुनियादी नियमों के उल्लंघन का लगातार विरोध करता रहा है.

बीबीसीफारसी सेवा के कसरा निज़ामी के मुताबिक़ सीरिया पर पश्चिमी देशों का हमला आशंका के उलट छोटे स्तर पर किया गया है जिससे ईरान ने राहत की सांस ली है.

हाालंकि ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खुमैनी ने कहा है कि सीरिया पर हमला करना एक गुनाह है.

उन्होंने यहां तक कहा कि अमरीका और फ्रांस के राष्ट्रपति और ब्रितानी प्रधानमंत्री एक अपराधी हैं. उन्हें इन हमलों से कुछ भी हासिल नहीं होगा.

Support Syria strikes:

– United States
– United Kingdom
– France
– Germany
– Turkey
– Saudi Arabia
– Qatar
– Canada
– Japan
– Australia
– Israel

Oppose Syria strikes:

– Syrian regime
– Russia
– Iran
– China

सीरिया के इन ठिकानों पर हुआ हमला
पेंटागन में अमरीकी अधिकारी के मुताबिक़ इन सीरियाई ठिकानों पर हमला किया गया है-

दमिश्क में स्थित एक वैज्ञानिक शोध संस्थान जो कथित रूप से रासायनिक और जैविक हथियारों के उत्पादन से जुड़ा था.
होम्स शहर के पश्चिमी इलाके में स्थित रासायनिक हथियारों को रखने का ठिकाना.
होम्स शहर में एक अहम सैन्य ठिकाना जहां रासायनिक हथियारों से जुड़ी सामग्री को रखा जाता था.
सीरिया के सरकारी टेलीविज़न ने कहा है कि सीरियाई सैन्य बलों ने एक दर्जन से ज़्यादा मिसाइलों को मार गिराया है.

अमरीका में रूसी राजदूत ने बताया है कि उसके सहयोगी देश पर हुए इस हमले के नतीजे सामने आएंगे.

Top Stories